मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर बोले, अपने काम का स्टाइल बदल लें अफसर

अफसरशाही की नेगेटिव अप्रोच से नाराज मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने हिमाचल की टॉप ब्यूरोक्रेसी को अपना स्टाइल बदलने की चेतावनी दी है। हिम प्रगति पोर्टल की समीक्षा बैठक में प्रशासनिक अधिकारियों की कार्यशैली पर सवाल उठाते हुए सीएम ने कहा कि अफसरशाही जवाबदेह बने। सीएम का कहना था कि जवाबदेही को एक-दूसरे के सिर पर नहीं मढ़ना चाहिए। सीएम ने फिर दोहराया कि कुछ प्रशासनिक अधिकारी ईमानदारी और कर्मठता के साथ काम कर रहे हैं। इसके विपरीत कुछेक अधिकारियों ने काम न करने का वर्क कल्चर अपना रखा है।

तल्ख हुए सीएम ने कहा कि यह सुनकर मेरे कान पक गए हैं कि अफसरशाही किसी की सुनती नहीं है। ब्यूरोक्रेट्स काम नहीं करते। मुख्यमंत्री ने कहा कि अब मुझे भी यकीन होने लगा है कि कुछेक अफसर न सुनते हैं और न काम करते हैं। इन अफसरों को अपना तुरंत स्टाइल बदलने की जरूरत है। सीएम ने कहा कि जवाबदेही अन्य अधिकारियों पर स्थानांतरित न की जाए। कोविड महामारी ने प्रदेश के विकास को बुरी तरह प्रभावित किया है और अब स्थिति नियंत्रण में लग रही है और समय के कारण हुए नुकसान की भरपाई के लिए आवश्यक कदम उठाए जाने चाहिए।

मुख्यमंत्री ने कहा कि विकासात्मक परियोजनाओं की प्रगति को हिम प्रगति पोर्टल पर शीघ्र अपलोड किया जाए। इन परियोजनाओं की नियमित रूप से उच्च स्तरीय निगरानी होनी चाहिए, ताकि इनके क्रियान्वयन में अनावश्यक देरी से बचा जा सके। अधिकारियों को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि राज्य की सभी प्रमुख परियोजनाएं समयबद्ध पूर्ण हों। कोरोना के कारण लगभग एक वर्ष खराब हो गया है, इसलिए कार्य और दृढ़ता से किए जाने चाहिए, ताकि इन्हें निर्धारित समय पर पूर्ण किया जा सके। पूर्ण हो रही परियोजनाओं पर विशेष बल दिया जाना चाहिए, ताकि उन्हें शीघ्र पूरा किया जा सके। इससे न केवल परियोजनाओं की लागत में वृद्धि पर रोक लगेगी, बल्कि लोग भी लाभान्वित होंगे।

किए समझौतों का फॉलोअप भी लें

जयराम ठाकुर ने कहा कि विभिन्न परियोजनाओं से संबंधित हस्ताक्षरित समझौता ज्ञापनों का सक्रियता से फॉलोअप किया जाना चाहिए, ताकि इन्हें शीघ्र क्रियान्वित किया जा सके। उन्होंने कहा कि कृषि, शिक्षा, आवास, उद्योग आदि से संबंधित हस्ताक्षरित समझौता ज्ञापनों में तेजी लानी चाहिए और वन तथा अन्य स्वीकृतियां उपलब्ध करवाने के लिए आवश्यक कदम उठाए जाने चाहिए।

मुख्य सचिव का आश्वासन, वक्त पर पूरा होगा काम

मुख्य सचिव अनिल खाची ने मुख्यमंत्री को आश्वासन दिया कि अधिकारी परियोजनाओं के क्रियान्वयन के लिए अधिक निष्ठा से कार्य करेंगे। उन्होंने कहा कि विभिन्न परियोजनाओं को निर्धारित समय पर पूरा कर लिया जाएगा। सरकार ने निवेशकों को विभिन्न स्वीकृतियां प्राप्त करने में सहायता प्रदान करने के लिए नोडल अधिकारी नियुक्त किए हैं।