मानवी भारती विवि मुश्किल में, संपत्ति सीज कर सकता है ईडी

लाखों फर्जी डिग्री बेचने के आरोपों में घिरी मानव भारती यूनिवर्सिटी की मुश्किलें बढ़ती ही जा रही हैं। सोलन के जिला प्रशासन ने प्रवर्तन निदेशालय को विवि के मालिकों की संपत्तियों की जानकारी उपलब्ध करा दी है। जिला राजस्व अधिकारी केशव राम ने ब्योरा उपलब्ध कराने की पुष्टि की है। माना जा रहा है कि इस जानकारी के बाद अब ईडी जल्द ही संपत्तियों को सीज करने की कार्रवाई शुुरू कर सकती है।

दरअसल, विश्वविद्यालय के खिलाफ पुलिस ने फर्जी डिग्री बेचने के मामले की जांच शुरू की। जांच के दौरान लाखों की संख्या में फर्जी डिग्री बेचने की बात सामने आई है। अभी तक विश्वविद्यालय का संचालन करने वाले ट्रस्ट के अध्यक्ष समेत कई लोगों की गिरफ्तारी भी हो चुकी है। मामले में वित्तीय लेनदेन की बात सामने आ रही थी। ऐसे में डीजीपी संजय कुंडू ने ईडी और इनकम टैक्स के आला अधिकारियों को पत्र लिखकर एडीजी सीआईडी की अध्यक्षता में गठित एसआईटी में उप निदेशक स्तर के अधिकारियों को शामिल करने की गुजारिश की थी।
राजस्थान में भी मिली है जानकारी
ईडी को हिमाचल के अलावा राजस्थान में भी कई संपत्तियों का पता चला है। जिन्हें काफी कम दामों पर खरीदा दिखाया गया। खास बात यह है कि इन संपत्तियों को मार्केट की वास्तविककीमत से कई गुना कम दाम पर खरीदा दिखाया गया। जांच एजेंसी को अंदेशा है कि फर्जी डिग्री बेंचकर अर्जित किए काले धन को विश्वविद्यालय के मालिकों ने इन संपत्तियों को खरीदने में खपाया है। ऐसे में यह संपत्तियां भी उसकी जांच के दायरे में आ गई है।