मांझी खड्ड में आई बाढ़ में फंसी महिला जान बचाने के लिए दो घंटे पेड़ पर बैठी रही ,

पहाड़ों पर जोरदार बारिश से मांझी खड्ड में सोमवार सुबह आई बाढ़ में एक महिला ने वृक्ष पर चढ़कर अपनी जान बचाई। पयूंगला देवी पत्नी प्रताप चंद निवासी जमानाबाद अपने खेतों में धान की रोपाई करने गई थी, जिसके पीछे उसका बेटा जमित सिंह ओर बहू रुपाली देवी भी खेतों में काम करने निकल गए । जब महिला अपने खेतों में काम कर रही थी तभी मांझी खड्ड में बाढ़ आ गई और उसके तमाम खेत बह गए ।लेकिन उसने बड़ी सुझबूझ के साथ काम लिया और पेड़ पर चढ़ गई ओर लगातार दो घंटे पेड़ से चिपक कर बैठी रही । उसका बेटा ओर बहू उसके पास पहुंचते उससे पहले उनके खेत बह गए थे और मां पानी में फंस गई थी। उन्होंने अपने गांव के लोगों को फोन किया पर खुद वहीं पर खड़े रहे।

थोड़े ही समय में गांव के लोग डोंडू नाला को लांघकर जिसका बहाब बहुत तेज था उसे पार करके मांझी खड्ड के पास पहुंचे तो देखा कि उसका बेटा ओर बहू एक तरफ खड़े हैं और पयूंगला देवी पेड़ पर चढ़ कर चिपक कर बैठी हैं । काफी देर इंतजार करने के बाद लोगों ने रेस्क्यू किया गया। साथ ही वहीं पर समीरपुर निवासी जगी जो कि ग्रीनहाउस में फंसा था उसे भी लोगों ने सुरक्षित निकाल लिया । इस रेस्क्यू में एसडीएम कांगड़ा अभिषेक वर्मा और फायर बिग्रेड की टीम मदन सिंह की अगवाई में पहुंची जिसने डोंडु नाला को पार करवाने में अपना अहम योगदान दिया। इस मौके पर स्थानीय निवासी हरि सिंह, अजय कुमार, प्रेम सिंह, अश्वनी कुमार, सोनू, रजिंद्र, काका, टिंकू व संदीप चौधरी सहित अनेक लोग मौजूद रहे।