महिला हैड कांस्टेबल छेड़छाड़ मामला : CID करेगी मामले की जांच

शिमला: हिमाचल प्रदेश की राजधानी शिमला में एक महिला हैड कांस्टेबल से छेड़छाड़ मामले की जांच अब आईपीएस अधिकारी को सौंप दी गई है. निष्पक्ष जांच के लिए हिमाचल पुलिस ने ये जांच सीआईडी को सौंपी है. सीआईडी में कार्यरत आईपीएस अधिकारी जी शिव कुमार को जांच अधिकारी नियुक्त किया गया है. जी शिव कुमार दक्षिण भारत के रहने वाले हैं और इनकी हिमाचल में काफी कम समय के लिए पोस्टिंग रही है. ये अधिकारी केंद्रीयय प्रतिनियुक्ति पर ही ज्यादा रहे हैं. डीजीपी संजय कुंडू ने इसकी पुष्टि की है.

आरोपी एएसपी को पद से हटाया
डीजीपी ने बताया कि आरोपी अधिकारी को शिमला जिला में एएसपी पद से हटाकर पुलिस मुख्यालय में अटैच किया गया है. उनके स्थान पर नए अधिकारी को तैनाती दी गई है. डीजीपी ने शिमला के सदर थाने में पत्रकारों के साथ बातचीत में जानकारी दी कि इस मामले में दो तरीके से जांच चल रही है. एक आईपीसी की धारा के तहत जांच चल रही है और दूसरा मामला कार्यस्थल पर सैक्सुअल हरासमेंट का है. पुलिस मुख्यालय में गठित इंटरनल कम्पलेंट्स कमेटी (आईसीसी) इसकी जांच कर रही है. विभाग की अधिकारी रंजना चौहान इस की जांच कर रही हैं.

कोर्ट के आदेशों पर अमल
उन्होंने कहा कि इस तरह के मामलों में सुप्रीम कोर्ट के आदेशों के तहत कार्रवाई अमल में लाई जा रही है. सुप्रीम कोर्ट की विशाखा गाइडलाइन के तहत पीड़िता का नाम और पहचान को सार्वजनिक नहीं किया जा सकता, पीड़िता के अलावा आरोपी का नाम और पहचान भी सार्वजनिक नहीं की जा सकती है. उन्होंने कहा कि जल्द ही मामले की जांच पूरी कर दी जाएगी. साथ ही कहा कि पीड़िता ने तय नियमों के तहत स्पेशल लीव के लिए छुट्टी के लिए आवेदन किया था, उसे 15 दिन की स्पेशल लीव दी गई है.

क्या है मामला
बता दें कि एक  महिला हेड कॉन्सटेबल ने आरोप लगाए हैं कि आरोपी अधिकारी कई दिनों से उसे तंग कर रहा है, साथ ही आपत्तिजनक बातें और गलत मांग कर रहा था. पुलिस अफसर पर आरोप है कि उसने पत्नी को गाड़ी सिखाने के बहाने उसे अपने घर बुलाया था. एक दिन उसने कहा कि उसकी पत्नी उससे मिलना चाहती है. जब वह उससे घर गई तो उस अफसर के अलावा वहां कोई नहीं था. आरोपी अफसर ने उसके साथ छेड़खानी की. आरोप है कि कार्यलय में भी पीड़िता हेड कांस्टेबल के साथ छेड़खानी की गई. इस बात की जानकारी उसने अपने सहकर्मियों को भी दी.