मनी लॉन्ड्रिंग मामला: पूर्व मुख्यमंत्री फारूक अब्दुल्ला की 12 करोड़ रुपए की संपत्ति जब्त

 श्रीनगर जम्मू और कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री और नेशनल कॉन्फ्रेंस के अध्यक्ष फारूक अब्दुल्ला के खिलाफ प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने बड़ी कार्रवाई की है। ईडी ने जम्मू-कश्मीर क्रिकेट एसोसिएशन स्कैम केस में मनी लॉन्ड्रिंग मामले के तहत फारूक अब्दुल्ला से संबंधित करीब 12 करोड़ रुपए मूल्य की संपत्ति जब्त कर ली है। ईडी की ओर से फारूक अब्दुल्ला से संबंधित तीन घर, दो प्लॉट और एक कॉमर्शियल प्रॉपर्टी अटैच की गई है।
इसकी कीमत बाजार में 11.86 करोड़ रुपए बताई जा रही है। सीज की गई  संपत्ति में एक प्रॉपर्टी श्रीनगर के गुपकार रोड पर स्थित है, जबकि तनमार्ग के कटीपोरा तहसील और जम्मू के भाटिंडी में एक-एक प्रॉपर्टी शामिल है। इसके अलावा श्रीनगर के रेजिडेंसी रोड क्षेत्र में एक कॉमर्शियल प्रॉपर्टी भी है। ईडी की ओर से कहा गया है कि जांच एजेंसी ने फारूक अब्दुल्ला की कुल छह संपत्तियों को अटैच किया है, जिसमें तीन आवासीय घर, एक कॉमर्शियल प्रॉपर्टी, और दो भूखंड शामिल हैं। यह कार्रवाई जेके क्रिकेट घोटाले से संबंध में की गई है। इससे पहले जम्मू-कश्मीर क्रिकेट एसोसिएशन के फंड में हुए कथित हेराफेरी के मामले में अक्तूबर में नेशनल कॉन्फ्रेंस के नेता और पूर्व मुख्यमंत्री फारूक अब्दुल्ला पूछताछ के लिए प्रवर्तन निदेशालय के दफ्तर गए थे। ईडी की ओर से पूछताछ के लिए नोटिस जारी होने के बाद फारूक दफ्तर गए। हालांकि ईडी के नोटिस पर नेशनल कॉन्फ्रेंस ने नाराजगी जताई और आरोप लगाया कि ये आवाज दबाने की कोशिश है।
जेके क्रिकेट संघ में 113 करोड़ की हेराफेरी
जेके क्रिकेट संघ में हेराफेरी के मामले में ईडी पहले भी छह घंटे तक फारूक अब्दुल्ला से पूछताछ कर चुकी थी। जम्मू-कश्मीर क्रिकेट एसोसिएशन में कथित 113 करोड़ रुपए की धांधली का मामला बहुत पुराना है। ऐसे आरोप हैं कि इसमें से करीब 43.69 करोड़ रुपए का गबन किया गया और इस पैसे को खिलाडि़यों पर भी खर्च नहीं किया गया।