मंडी : स्कूलों के शिक्षण और गैर शिक्षण स्टाफ के लिए कोरोना टेस्ट किए अनिवार्य

मंडी: हिमाचल प्रदेश के मंडी (Mandi) जिला में स्कूलों के शिक्षण और गैर शिक्षण स्टाफ के लिए कोरोना टेस्ट (Corona Test) अनिवार्य कर दिया गया है. इसकी अधिसूचना डीसी मंडी (DC Mandi) ने सोमवार को जारी कर दी है. टेस्ट न करवाने वालों के खिलाफ आपदा प्रबंधन अधिनियम के तहत कार्रवाई होगी. दरअसल, मंडी जिले के सरकाघाट (Sarkaghat) क्षेत्र में स्कूल खुलने से एक दिन पहले बड़ी संख्या में शिक्षक कोरोना पॉजिटिव मिले थे. इसके चलते यहां स्कूल फिलहाल नहीं खोले गए हैं. अब सभी शिक्षकों और अन्य स्टाफ के कोरोना टेस्ट जरूरी कर दिए गए हैं.

दस हजार 10 हजार शिक्षकों-स्टाफ के टेस्ट
जानकारी के अनुसार, अब 10 दिन में करीब 10 हजार शिक्षकों और गैर-शिक्षकों के कोरोना के टेस्ट होंगे. इसके लिए 174 केंद्र बनाए गए हैं. 70 फीसदी आरटीपीसीआर और 30 फीसदी रेट के तहत टेस्ट होंगे. 46 स्कूलों के टीचर्स के ये टेस्ट होंगे.

तीन दिन में साठ टीचर कोरोना ग्रस्त
सोमवार को मंडी जिले में कोरोना के चार मामले आए हैं. सोमवार को कोई अध्यापक कोरोना पॉजिटिव नहीं मिला है. लेकिन तीन दिनों में सरकाघाट में 60 से अधिक अध्यापक और गैर शिक्षण कर्मचारी पॉजिटिव पाए गए हैं. ऐसे में सरकार के साथ ही अभिभावक भी चिंता में हैं. कोरोना पर काबू पाने के लिए विभाग ने स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं को स्वास्थ्य केंद्रों में लोगों का उपचार करने के अलावा एक घंटे के लिए नजदीकी स्कूल में भी जाने को कहा है और अध्यापकों और विद्यार्थियों के स्वास्थ्य की जांच करेंगे.