बागवानों से ठगी करने वालों पर एसआईटी को मिली अब तक की सबसे बड़ी कामयाबी

हिमाचल प्रदेश के बागवानों से ठगी करने वालों पर कार्रवाई करने वाली सीआईडी की एसआईटी को अब तक की सबसे बड़ी कामयाबी मिली है। एसआईटी ने कोटखाई के रहने वाले एक बड़े जालसाज को मुंबई से गिरफ्तार कर लिया है। इस पर सूबे के एक दर्जन आढ़तियों और बागवानों की करीब सात करोड़ से ज्यादा की राशि हड़पने का आरोप है। कहा जा रहा है कि बागवानों और आढ़तियों से ठगी करने वाला यह हिमाचल का अब तक का सबसे बड़ा जालसाज है।

पकड़े गए आरोपी का नाम संदीप मेहता उर्फ सैंडी है। कोटखाई का रहने वाला सैंडी सोलन में आढ़त चलाता था और अन्य क्षेत्रों के आढ़तियों और बागवानों से उधार में सेब खरीदकर बेचने का काम करता था। 2015 से 2018 के बीच इसने कई बागवानों को रकम अदायगी के लिए चेक दिए जो बाद में बाउंस हो गए। ऐसे करीब दो दर्जन से ज्यादा मामलों में रामपुर, रोहड़ू, जुब्बल कोटखाई, ठियोग व सोलन समेत कई जगह की कोर्ट से यह वांछित भी चल रहा था।

2018 में वह हिमाचल से अपना पूरा काम समेटकर फरार हो गया और मुंबई में सेटल हो गया। सूत्रों के मुताबिक स्थानीय पुलिस इसकी तलाश में कई बार मुंबई गई, लेकिन वह किसी के हाथ नहीं लगा, लेकिन सीआईडी की एसआईटी को वह एक ही बार में मिल गया। एसआईटी के प्रभारी एसपी वीरेंद्र कालिया ने बताया कि संदीप को मौजूदा समय में चल रही बागवानों से धोखाधड़ी का सूत्रधार माना जा सकता है।

बैंकों के भी करोड़ों हड़पने का है आरोप
संदीप पर हिमाचल प्रदेश में मौजूद कई बैंकों का करीब पांच करोड़ रुपये हड़पने का आरोप है। एसपी वीरेंद्र कालिया ने बताया कि अभी तक की शुरुआती जांच में पता चला है कि आरोपी ने बैंकों से लोन लिया और उस राशि को मुंबई में अन्य कार्यों में निवेश कर दिया। ऐसे में अब बैंक भी इस गिरफ्तारी के बाद सक्रिय हो गए हैं।

2019 में सीआईडी को मिली 25 शिकायतें
बागवानों और बैंकों के करोड़ों रुपये हड़पकर संदीप उर्फ सैंडी मुंबई में ऐशो आराम की जिंदगी जी रहा था। बताया जा रहा है कि उसने वहां कुछ पव और बार भी खोल लिए और बॉलीवुड में भी पैसा लगाया। 2019 में जब सीआईडी की एसआईटी बनी तो उसके पास संदीप के फ्रॉड के 25 मामले पहुंच गए। एफआईआर दर्ज कर एसआईटी ने जांच शुरू की और कड़ी से कड़ी मिलाते हुए इस जालसाज को गिरफ्तार कर लिया।