पूर्व मंत्री के गांव में आज भी मोबाइल सिग्नल नहीं

हिमाचल प्रदेश सरकार में दो बार लाहौल-स्पीति से विधायक एवं जनजातीय राज्य मंत्री रहे फुंचोग राय के गांव में आज भी मोबाइल सिग्नल न होने से लोगों को फोन करने में भारी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। करीब 40 से अधिक घरों की आबादी वाली ताबो पंचायत के लरी गांव में मोबाइल सिग्नल नहीं होने से लोग परेशान हैं।

लोगों का कहना है कि गांव से दो किलोमीटर बीएसएनएल टॉवर के पास ही सिग्नल मिलता है। स्पीति घाटी की कई पंचायतों में मोबाइल सिग्नल नहीं है। सिग्नल न होने से कोविड टीकाकरण के लिए ऑनलाइन सेल्फ रजिस्ट्रेशन के लिए भी इन दिनों घाटी के बाशिंदे परेशान हैं।

स्पीति घाटी में कुल 13 पंचायतें हैं। आज भी घाटी के गांव क्याटो, हल, पंगमो, मूरंग, खुरिक तथा सुमलिंग के साथ ही किब्बर और चिच्चम में भी मोबाइल नेटवर्क नहीं है। हिक्किम, कौमिक, लंगचा, डेमुल, लालुंग, रामा, चुमरंग, पिन वैली के सगनम और कुंगरी पंचायत के गांव डंखर और ग्यू, ताबो पंचायत के अंतर्गत लरी पोह, नदंग और कुरिद में दूरभाष सेवा उपलब्ध नहीं है।

स्पीति घाटी के छेरिंग पलजोर, तंजिन, छिमेद और मंगजोर ने कहा कि इस समय कोविड टीकाकरण के लिए 18 से 44 वर्ष तक के लोगों का आनलाइन रजिस्ट्रेशन हो रहा है, लेकिन स्पीति के अधिकतर लोग टीकाकरण का पंजीकरण नहीं कर पा रहे हैं। डीसी लाहौल-स्पीति पंकज राय ने कहा कि घाटी में ऑफलाइन पंजीकरण भी होगा।