पीएम मोदी ने संयुक्त राष्ट्र के जलवायु परिवर्तन सम्मेलन में की शिरकत

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जलवायु परिवर्तन से निपटने के लिहाज से आदतों में बदलाव लाने के लिए एक वैश्विक जन आंदोलन की जरूरत बताई है.

सोमवार को संयुक्त राष्ट्र जलवायु कार्रवाई सम्मेलन को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि इसे लेकर हमारी नीति लालच की नहीं, बल्कि जरूरत की है. पीएम ने भारत के गैर-परंपरागत ईंधन उत्पादन के लक्ष्य को दोगुने से अधिक बढ़ाकर वर्ष 2022 तक 400 गीगावॉट तक पहुंचाने का संकल्प व्यक्त किया है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जलवायु परिवर्तन की समस्या से निपटने के लिए समग्र दृष्टिकोण अपनाने का आह्वान किया. उन्होंने देश में सरकार द्वारा उठाए गए कदमों का जिक्र करते हुए कहा कि भारत में ई-मोबिलिटी को बढ़ावा दिया गया है. इसके साथ ही 1.5 करोड़ लोगों को स्वच्छ ईंधन मुहैया कराया गया है.