पच्छाद में सरकारी राशन के डिपुओं से राशन लेना हुआ मुश्किल

सराहां : उपमंडल पछाद में इन दिनों सरकारी डिपुओं से राशन लेने के लिये कई लोगो को भारी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।कॅरोना काल मे जहां एक और घर से कम से कम बाहर निकलने की प्रशासन द्वारा हिदायत दी जा रही है वही सरकारी डिपुओं में यदि राशन लेना हो तो उपभोगता को बायो मेट्रिक मशीन में अंगूठा लगवाने के पश्चात ही राशन मिलने की व्यवस्था है ।जिसको लेकर स्थानीय लोगो मे करोंना संक्रमण के बढ़ने की आशंका बरकरार है।यही नही बहुत सारे उपभोगता ऐसे हैं जिनका फिंगर प्रिंट बॉयोमेट्रिक मशीन पर नही आ रहा है ऐसे में इन उपभोगताओं की मुश्किलें बढ़ रही है।

हालांकि राशन कार्ड को स्कैन कर उपभोगताओं के मोबाइल पर ओटीपी आने का विकल्प भी रखा गया है।लेकिन ग्रामीण इलाकों में जागरूकता की कमी के चलते बहुत सारे उपभोगताओं के मोबाइल नंबर भी अपडेट नही है।यही नही कुछ राशन कार्ड ऐसे भी है जो करेक्शन के पश्चात नेट से निकाले गये है उनमें से कई राशन कार्डों के क्यू आर कोड स्केन नही हो पा रहे हैं।
ऐसे में एक तो कॅरोना महामारी के चलते ऐसे ही लोगो के रोजगार के अवसर सीमित हो चुके हैं और उन्हें सरकारी सहायता की अत्यंत आवश्यकता है ऊपर से संकट के इस समय मे सरकार द्वारा बनाए गये ये सख्त नियम न केवल उपभोगता बल्कि डिपो होल्डर के लिये भी परेशानी का सबब बन रहे है।क्योंकि यदि वो ऑफ लाइन किसी उपभोगता को राशन वितरित करे भी तो ऑनलाइन तो उसके स्टॉक मे राशन का कोटा पूरा दिखाई देगा जबकि डिपो में उनके स्टॉक से राशन वितरित हो चुका होगा।ऐसे में डिपो होल्डर भी असमंजस की स्थिति मे है।ऐसी परिस्थिति में आम नागरिकों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।लोगो ने विभाग व सरकार से गुहार लगाई है कि कॅरोना काल के संकट की इस घड़ी मे इस समस्या का समाधान करके सभी जरूरतमंद उपभोगताओं को राशन उपलब्ध करवाया जाय।लोगो ने यह भी अपील की है कि जो वरिष्ठ नागरिक घर पर अकेले है और डिपो में राशन लाने में असमर्थ हैं उनके लिये भी कोई सुविधा प्रदान की जाय।