नहीं फहराने देंगे तिरंगा, खालिस्तान समर्थकों की मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर को धमकी

खालिस्तानी आतंकी संगठन ने हिमाचल प्रदेश के अस्तित्व को चुनौती देते हुए 15 अगस्त को झंडा न फहराने देने की धमकी दी है। राज्य के स्टेट लेवल एक्रिडेटिड जर्नलिस्ट को आतंकी संगठन ने 56 सेकंड का व्वाइस कॉल भेज कर हिमाचल पर कब्जे की धमकी दी है। इस व्वाइस कॉल में कहा गया है कि मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर को हिमाचल में 15 अगस्त को झंडा फहराने नहीं देंगे। सिक्ख फॉर जस्टिस संगठन के आतंकी गुरु  पतवंत सिंह पन्नू ने ऐलान किया है कि हिमाचल पहले पंजाब का हिस्सा था। इस कारण अब खालिस्तानी हिमाचल में भी कब्जा करेंगे। इस धमकी के बाद हिमाचल तथा केंद्र सरकार की सुरक्षा व खुफिया एजेंसियां सतर्क हो गई हैं।

हिमाचल प्रदेश के डीजीपी संजय कुंडू का कहना है कि राज्य सरकार ने इस थ्रेट को गंभीरता से  लिया है। इंटरस्टेट बॉर्डर पर सभी वाहनों की तलाशी ली जा रही है। इसके साथ पेट्रोलिंग 24 घंटे तेज कर दी है। जिलों के सभी एसपी को अलर्ट कर दिया गया है। खासकर बॉर्डर एरिया के एसपी खुद स्थिति का जायजा लेंगे और 15 अगस्त तक सुरक्षा व्यवस्था को चाक चौबंध रहेगी। बॉर्डर एरिया के एसपी दूसरे जिलों के एसपी के साथ सिक्योरिटी पर मीटिंग करेंगे। इस आधार पर सुरक्षा प्रबंधों को पुख्ता किया जाएगा। गौर हो कि हिमाचल प्रदेश की अस्तित्व को पहली बार किसी आतंकी संगठन ने ललकारा है। हालांकि इससे पहले गोरखा लैंड को लेकर भी हिमाचल के कुछ हिस्से चिन्हित हुए थे। बावजूद इसके मोबाइल फोन पर धमकी के साथ प्रदेश को ललकारने का यह पहला मामला है।

विचलित होने की जरूरत नहीं 

धर्मशाला। मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने कहा कि हम स्वतंत्र भारत में रहते हैं और तिरंगे पर सभी को गर्व है। हिमाचल ही नहीं, देश में तिरंगे के खिलाफ कोई भी इस तरह का प्रयास करेगा, तो उसे सहन नहीं किया जाएगा। ऐसी धमकियों से विचलित करने का कोई कुप्रयास करेगा, ऐसा संभव नहीं है। देश प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में हर बात का जवाब देने के लिए सक्षम है।

मुख्यमंत्री की सुरक्षा में इजाफा

इस धमकी के बाद मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर की सुरक्षा को जेड कैटेगरी से जेड प्लस करने का केंद्र को प्रस्ताव भेज दिया गया है। हालांकि हिमाचल पुलिस ने अपने स्तर पर मुख्यमंत्री को वन स्टेप हायर जेड प्लस की सुरक्षा प्रदान कर दी है। हालांकि इसकी आधिकारिक अधिसूचना केंद्रीय गृह मंत्रालय जारी करेगा।

साइबर सैल करेगा धमकी की जांच

हिमाचल पुलिस ने इस धमकी भरेव्वाइस कॉल की प्रमाणिकता को जांचने का जिम्मा साइबर सैल को सौंपा है। इसके साथ ही राज्य पुलिस ने इंटेलिजेंस ब्यूरो और रॉ सहित सभी खुफिया एजेंसियों के मुख्यालयों को रिपोर्ट कर दी है। पता लगाया जा रहा है कि यह टेलीफोन कॉल कनाडा-अमरीका से आई है या देश के भीतर ही बैठकर कोई इस प्रकार का कृत्य कर रहा है।