देवभूमि हिमाचल में ‘‘हिम सुरक्षा अभियान’’ के तहत की 21.54 लाख से अधिक लोगों की स्वास्थ्य जांच

देवभूमि हिमाचल में हिम सुरक्षा अभियान के तहत विभिन्न विभागों, जिला प्रशासन और गैर सरकारी संगठनों वाले कुल 7298 सक्रिय दलों द्वारा लोगों के स्वास्थ्य मापदंडों के बारे में घर-घर जाकर आंकड़े एकत्रित किए जा रहे हैं। यदि किसी व्यक्ति में कोई लक्षण पाया जाता है, तो आगे की जांच के लिए सैंपल एकत्र किए जा रहे हैं ताकि उन्हें बेहतर स्वास्थ्य सेवाएं प्रदान की जा सकें। मुख्यमंत्री  जयराम ठाकुर  द्वारा बीते 24 नवम्बर को आरम्भ किया गया ‘‘हिम सुरक्षा अभियान’’ स्वास्थ्य, आयुर्वेद, महिला एवं बाल विकास, पंचायती राज विभाग, जिला प्रशासन और स्वयंसेवी संस्थाओं के सहयोग से 27 दिसम्बर, 2020 तक चलेगा। इसमें विभिन्न दल लोगों के स्वास्थ्य मापदंडों के बारे में घर-घर जाकर सूचना एकत्रित करना सुनिश्चित करंेगी। अभियान के तहत विभिन्न बीमारियों के लिए अब तक 21,54,952 से अधिक लोगों की स्वास्थ्य जांच की जा चुकी है।
अभियान के दौरान की गई विभिन्न बीमारियों से पीड़ित मरीजों की पहचान
हिमाचल प्रदेश स्वास्थ्य सचिव श्री अमिताभ अवस्थी जी के अनुसार बीते 8 दिसम्बर तक जिला बिलासपुर में 1,23,058 लोगों, चंबा में 1,52,480, हमीरपुर में 1,86,825, कांगड़ा में 4,87,758, किन्नौर में 18,313, कुल्लू में 1,61,723, लाहौल-स्पीति में 5,943, मंडी में 3,69,730, शिमला में 1,46,761, सिरमौर में 1,37,907, सोलन में 1,98,892 और ऊना में 1,65,562 लोगों की स्वास्थ्य जांच की जा चुकी है, जो राज्य की 29 प्रतिशत आबादी है। जांच के दौरान कोविड के लिए कुल 29,135, तपेदिक के लिए 8,476 और कुष्ठ रोग के लिए 688 संभावितों की पहचान की गई है। सभी जिलों में अधिकारियों को कोविड, क्षयरोग और कुष्ठ रोग के संभावितों के तत्काल सैंपल लेने के निर्देश दिए गए हैं।
घर-घर जाकर पढ़ाया जा रहा जागरूकता का पाठ
हिमाचल प्रदेश में कोरोना वायरस के प्रसार को रोकने के लिए राज्य सरकार हरसंभव प्रयास कर रही है। मुख्यमंत्री  जयराम ठाकुर  द्वारा शुरू किया गया ‘‘हिम सुरक्षा अभियान’’ कोविड-19 महामारी के बारे में लोगों को जागरूक करने और क्षयरोग, कुष्ठ रोग, शुगर, उच्च रक्तचाप आदि के लक्षणों के बारे में जानकारी एकत्र करने के लिए पूरे राज्य में डोर-टू-डोर अभियान के रूप में चलाया जा रहा है। अभियान की निरन्तर निगरानी के लिए अधिकारियों को तैनात किया गया है। अभियान के माध्यम से कोविड उचित व्यवहार जैसे व्यक्गित स्वच्छता, सामाजिक दूरी और मास्क पहनने के बारे में जागरूकता के अतिरिक्त चिकित्सा मांग व्यवहार के प्रति जागरूकता पैदा की जा रही है ताकि किसी भी स्वास्थ्य समस्या से पीड़ित व्यक्ति तुरंत चिकित्सक से परामर्श ले सकें।
सैंपल एकत्र करने के लिए स्थापित किए गए कियोस्क
हिमाचल प्रदेश स्वास्थ्य सचिव  अमिताभ अवस्थी  ने कहा कि आवश्यकता पड़ने पर उपचार के लिए स्वास्थ्य संस्थान को होम आइसोलेशन के तहत कोविड-19 रोगियों के लिए चिह्नित सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों में समर्पित वाहन उपलब्ध कराए जाएंगे। इन वाहनों को पीछे की सीट से चालक केबिन को अलग करने के लिए फाइबर ग्लास लगाया जाएगा। इसके अलावा, आपातकालीन सेवाओं के लिए जिलों से 30 एंबुलेंस को जोड़ा गया है। लोगों के सैंपल एकत्र करने के लिए राज्य के कुछ स्थानों पर कियोस्क लगाए गए हैं। स्वास्थ्य सचिव ने कहा कि वर्ष 2019 के लिए टीबी उन्मूलन कार्यक्रम के प्रभावी कार्यान्वयन में राज्य को पहले ही देश में सर्वश्रेष्ठ राज्य के रूप में स्थान दिया गया था और हिमाचल प्रदेश अन्य बड़े राज्यों में तपेदिक अधिसूचना दर में अग्रणी है।