तालिबानी सजा: हेलीकॉप्टर से लटकाकर दी दर्दनाक मौत, क्या है वायरल वीडियो की सच्चाई

अफगानिस्तान से 20 साल बाद अमेरिकी सैनिकों की वापसी का तालिबान जश्न मना रहा है। इन तालिबानी लड़ाकों का अब समूचे अफगानिस्तान पर एकतरफा राज हो गया है। अब यहां वही लागू होगा जो तालिबान चाहेगा।

वैसे तो काबुल की सत्ता गिरने के बाद कई ऐसे वीडियो सामने आए हैं, जिसमें आम अफगानी नागरिकों को दर्दनाक सजा दी जा रही है, लेकिन अब एक ऐसा वीडियो सामने आया है जो रोंगटे खड़े कर देगा। वायरल हुए वीडियो में एक शख्स हेलीकॉप्टर से लटका हुआ दिखाई दे रहा है।

अमेरिकी सैनिकों की वापसी के बाद का है वीडियो
यह वीडियो अफगानिस्तान से अमेरिकी सैनिकों की वापसी के बाद का है। काबुल के आसमान में हेलीकॉप्टर उड़ता हुआ दिखाई दे रहा है। इस हेलीकॉप्टर के नीचे रस्सी से एक आदमी बंधा हुआ है। दावा किया जा रहा है कि तालिबान ने इस शख्स को अमेरिकी सैनिकों की मदद करने की सजा दी है और हेलीकॉप्टर से लटकाकर फांसी दे दी है। आसमान में इस शख्स को इसलिए घुमाया जा रहा है, जिससे आम अफगानी जान लें कि तालिबान के खिलाफ उठने वाली आवाज को क्या सजा मिलेगी।

ये है वीडियो की सच्चाई
वीडियो सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रहा है और तालिबान की दर्दनाक हुकूमत को बयां कर रहा है, लेकिन अब इस वीडियो की सच्चाई भी सामने आ गई है। स्थानीय पत्रकारों के मुताबिक, हेलीकॉप्टर से लटकने वाले शख्स को कोई सजा नहीं दी गई है बल्कि यह व्यक्ति करीब 100 मीटर ऊपर तालिबान का झंडा लगाने का काम कर रहा है। हेलीकॉप्टर से उसे इसलिए लटकाया गया है, जिससे वह इतनी ऊंचाई तक पहुंच सके। हालांकि, शख्स झंडा लगाने में कामियाब नहीं हो सका। स्थानीय पत्रकारों का कहना है झंडा लगाने वाला व्यक्ति भी तालिबानी ही है।

अमेरिका से ही मिली हेलीकॉप्टर उड़ाने की ट्रेनिंग
शख्स जिस हेलीकॉप्टर से लटका हुआ है, वह अमेरिकी हेलीकॉप्टर ब्लैकहॉक है। एक अमेरिकी पत्रकार ने अपने ट्विटर हैंडल पर वीडियो पोस्ट करते हुए लिखा है कि इसके लिए अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन जिम्मेदार हैं। इस ट्वीट का जवाब देते हुए एक अफगानी पत्रकार ने लिखा है कि इस तालिबानी शख्स को अमेरिका व यूएई से ही हेलीकॉप्टर उड़ाने की ट्रेनिंग मिली हुई है। तालिबानी लड़ाका लटककर झंडा लगाने की कोशिश कर रहा है। हालांकि, वह इसमें सफल नहीं हो पाया। वीडियो काबुल का न होकर कंधार के गवर्नर हाउस का है।