टीजीटी भर्ती में चार साल की बीएड करने वालों की 12वीं पास होगी शैक्षणिक योग्यता, आरएंडपी नियम तय

हिमाचल प्रदेश में टीजीटी भर्ती में चार साल की बीएड करने वालों की न्यूनतम शैक्षणिक योग्यता 12वीं पास होना तय कर दी गई है। प्रारंभिक शिक्षा निदेशालय ने कर्मचारी चयन आयोग हमीरपुर को टीजीटी भर्ती के लिए बनाए गए आरएंडपी नियम भेज दिए हैं। लिखित परीक्षा पास करने वाले अभ्यर्थियों को दस्तावेजों के मूल्यांकन आधार पर न्यूनतम शैक्षणिक योग्यता के ढाई अंक मिलते हैं। टीजीटी भर्ती के लिए न्यूनतम शैक्षणिक योग्यता तय करने का मामला बीते लंबे समय से सरकार के विचाराधीन था।

भर्ती एवं पदोन्नित नियमों को लेकर विभागीय स्तर पर काफी माथापच्ची करने के बाद अब इन्हें तैयार कर लिया गया है। नए नियमों के तहत एक वर्ष की बीएड करने वालों के लिए बीए, बीकॉम और बीएससी न्यूनतम शैक्षणिक योग्यता रहेगी। चार वर्ष का इंटेग्रेटिड बीएड कोर्स करने वालों के लिए बारहवीं कक्षा पास करना न्यूनतम शैक्षणिक योग्यता रहेगी। प्रदेश में साक्षात्कार बंद होने के बाद से सरकार ने अब दस्तावेजों की जांच के आधार पर 15 अंक निर्धारित किए हैं। इसमें ढाई अंक न्यूनतम शैक्षणिक योग्यता के रखे गए हैं।

वहीं, प्रदेश के कॉलेजों में 592 शिक्षकों की भर्ती प्रक्रिया शुरू हो गई है। शिक्षा विभाग ने चुनाव आचार संहिता हटते ही राज्य लोकसेवा आयोग को भर्ती के लिए विज्ञापन जारी करने की संस्तुति भेज दी है। इसके तहत 555 असिस्टेंट प्रोफेसरों, 25 प्रिंसिपलों और संस्कृत कॉलेजों में 12 आचार्यों के पद भरने की सिफारिश की गई है।

अब आयोग जल्द भर्ती के लिए विज्ञापन जारी करेगा। मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर की अध्यक्षता में कुछ माह पूर्व हुई मंत्रिमंडल की बैठक में शिक्षकों की विभिन्न श्रेणियों के चार हजार पद भरने का फैसला लिया गया था। प्रारंभिक शिक्षा विभाग ने जेबीटी, कला और शारीरिक शिक्षकों की भर्ती प्रक्रिया आचार संहिता लगने से पूर्व ही शुरू कर दी थी। कॉलेजों में की जाने वाली भर्ती के लिए नियम बनाने का कार्य जारी था। इसी बीच, चुनावों की घोषणा होने से मामला लटक गया। अब चुनाव प्रक्रिया पूरी होते ही शिक्षा विभाग ने राज्य लोकसेवा आयोग को भर्ती प्रक्रिया शुरू करने का पत्र भेज दिया है।