चिंता: पड़ोसी देशों को आर्थिक मदद देकर भारत को घेरे हुए है चीन, कैसे फंसाया है देशों को कर्ज के जाल में

अफगानिस्तान में तालिबान की सरकार बनने के बाद जब बाकी दुनिया इंतजार करने की नीति अपना रही है, चीन ने सबसे पहले तालिबान की तरफ मदद का हाथ बढ़ा दिया है। चीन ने अफगानिस्तान का आर्थिक संकट दूर करने के लिए बुधवार को तालिबान को 31 मिलियन अमेरिकी डॉलर की मदद का एलान कर दिया। चीन ने कहा कि यह अराजकता खत्म करने और व्यवस्था बहाल करने के लिए जरूरी है।

अंतरराष्ट्रीय मामलों के जानकारों को चीन का यह कदम सोची-समझी रणनीति लग रही है। वे मानते हैं कि चीन इस तरह से भारत के पड़ोसी देशों की मदद करके भारत को हर तरह से घेरने की कोशिश करता है, जिससे भारत कूटनीतिक तौर पर दबाव में रहे। चीन व्यापार, रक्षा सौदे, बुनियादी ढांचे के विकास के नाम पर इन देशों के लिए भारत से बेहतर विकल्प बनने की कोशिश में है। पाकिस्तान, श्रीलंका से लेकर बांग्लादेश, म्यांमार और नेपाल में विकास के नाम पर चीन इन देशों में अपना आधिपत्य स्थापित करना चाह रहा है और इस कड़ी में अब नया नाम अफगानिस्तान का जुड़ गया है।

‘डेट-ट्रैप डिप्लोमेसी’ पर काम करता है चीन
पूर्व विदेश सचिव शशांक कहते हैं कि चीन भारत के पड़ोसी देशों के साथ डेट-ट्रैप डिप्लोमेसी पर काम करता है। यानी विकास के नाम पर इन देशों को कर्ज दो और वहां अपना आधिपत्य जमाओ। दरअसल इसके पीछ चीन की दो रणनीति है। पहले तो  चीन खुद को विश्वशक्ति मानता है। विज्ञान, सैन्य ताकत में सशक्त बनना चाहता है। 1949 तक उसका लक्ष्य अमेरिका तक पीछे छोड़ने का है। इसलिए वह दुनिया के कई देशों में अपनी दखल चाहता है। अब उसकी नजर अफगानिस्तान पर है। उस देश की आर्थिक दशा बिल्कुल छिन्न-भिन्न है, ऐसे में चीन मददगार बन करआएगा और तालिाबन से अपनी मर्जी मुताबिक काम करवाना उसके लिए आसान होगा।

भारत का विकल्प बनना चाहता है
शशांक बताते हैं चीन दूसरी रणनीति भारत के पड़ोसी देशों की आर्थिक मदद करके उन पर डोरे डालने की कोशिश करता है, जिससे इन देशों की भारत से निर्भरता कम करके अपने ऊपर निर्भरता बढ़ाई जा सके। वहीं जिससे भारत को आर्थिक और कूटनीतिक तौर पर घेरा जा सके।

चीन ने विकास और व्यापार के नाम पर पाकिस्तान, बांग्लादेश, म्यांमार और नेपाल की आर्थिक मदद की। वहां अपना व्यापार बढ़ाया है और अपनी कंपनियों को सुरक्षा देने की जिम्मेदारी खुद ले ली है। चीन ने पाकिस्तान को सबसे ज्यादा भरोसे में लिया क्योंकि भारत को लेकर पाकिस्तान और चीन के हित एक हो जाते हैं इसलिए वह पाकिस्तान की आर्थिक मदद करके वहां अपना दबदबा बनाए रखता है जिससे भारत सुरक्षात्मक दबाव में रहे।