गृह मंत्री अमित शाह बोले- ‘मेरे जीवन में जब-जब संकट आया जेटली जी ने उसका समाधान निकाला’

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भाजपा नेता अरुण जेटली को उनकी जयंती पर सोमवार को श्रद्धांजलि दी और कहा कि उनका ओजस्वी व्यक्तित्व, बुद्धिमता, कानूनी समझ और हाजिरजवाबी को वे सभी लोग याद करते हैं, जो उनके काफी निकट थे। वहीं गृह मंत्री अमित शाह ने दिल्ली के फिरोजशाह कोटला स्टेडियम में दिवंगत भाजपा नेता की प्रतिमा का अनावरण किया। इस मौके पर उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी और अरुण जेटली में गहरी दोस्ती थी। वे एक बेहद तार्किक नेता थे। उनके पास हर सवाल का सटीक जवाब होता था।

 

शाह ने जेटली की प्रतिमा का अनवारण करते हुए कहा, ‘यह मेरे लिए बहुत सम्मान और खुशी की बात है कि मैं यहां फिरोजशाह कोटला स्टेडियम में हूं, जिसने अतीत में कुछ ऐतिहासिक क्रिकेट क्षण देखे हैं। जेटली जी ने कभी सदन की गरिमा को नहीं तोड़ा। वे एक बेहद तार्किक नेता थे। अरुण जेटली जी पुख्ता तर्कों के साथ विरोध करते थे, आपातकाल एक काला अध्याय था, उसके खिलाफ अरुण जेटली जी लड़े और जेल गए। विपक्ष में रहते हुए उनकी भूमिका की वजह से ही 2014 में मोदी सरकार सत्ता में आई, वो एक मजबूत वित्त मंत्री थे।’

यह भी पढ़ें- दिल्ली के कोटला स्टेडियम में लगी दिवंगत अरुण जेटली की प्रतिमा, गृह मंत्री अमित शाह ने किया अनावरण

जेटली को याद करते हुए गृह मंत्री ने कहा, ‘कनफ्यूजन के बगैर उन्होंने आईपीएल का मजबूत खाका तैयार किया। आज आईपीएल पटरी पर चल रहा है और हजारों युवाओं के लिए क्रिकेट रोजगार का आधार बन गया है। मेरे जीवन में जब संकट आया तो अरुण जी ने उसका समाधान निकाला।’

बता दें कि जेटली कई साल तक भाजपा की सबसे मुखर आवाज वाले नेताओं में शामिल रहे और उन्हें सबसे सूक्ष्म राजनीतिक समझ वाले नेताओं में से एक माना जाता था। उनका जन्म 1952 में हुआ था। उनका पिछले साल अगस्त में निधन हो गया था।

जेटली की जयंती पर प्रधानमंत्री मोदी ने ट्वीट कर कहा, ‘मैं अपने मित्र अरुण जेटली जी को उनकी जयंती पर याद कर रहा हूं। उनके ओजस्वी व्यक्तित्व, बुद्धिमता, कानूनी समझ और हाजिरजवाबी को वे सभी लोग याद करते हैं, जिन्होंने उनसे निकटता से बातचीत की है। उन्होंने भारत की प्रगति के लिए अथक मेहनत की।’