गिर गई उद्धव सरकार, फ्लोर टेस्ट का सामना करने से पहले ही मुख्यमंत्री ठाकरे ने दिया इस्तीफा

0
1

सुप्रीम कोर्ट से फ्लोर टेस्ट का रास्ता साफ  होने के बाद बुधवार को महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने अपने इस्तीफे का ऐलान कर दिया। उन्होंने फेसबुक पर लाइव हुए सीएम की कुर्सी छोड़ने के साथ विधान परिषद से भी इस्तीफा देने की घोषणा कर दी। वह गुरुवार को विधानसभा में होने वाले फ्लोर टेस्ट में नहीं जाएंगे। उन्होंने कहा कि मैं नहीं चाहता कि गुरुवार को शिवसैनिकों का खून बहे और वे सड़क पर उतरें, इसलिए मैं कुर्सी छोड़ रहा हूं। उन्होंने इस फेसबुक लाइव में अपनी उपलब्धियों के साथ बगावत पर दुख व्यक्त किया। उद्धव ठाकरे ने कहा कि अच्छे कामों को नजर जल्दी लगती है। उद्धव ठाकरे ने सोनिया गांधी और शरद पवार को धन्यवाद दिया। उन्होंने कहा कि जिनको उन्होंने बहुत कुछ दिया वे नाराज हैं और जिन्हें कुछ नहीं दिया, वे आज भी साथ हैं।

 मुझे इन लोगों से धोखे की आशंका नहीं थी। सीएम उद्धव ने कहा कि हमने लोगों के फायदे के लिए काम किया। सबका आशीर्वाद हमारे साथ है। सुप्रीम कोर्ट ने भी फ्लोर टेस्ट की इजाजत दे दी है। राज्यपाल जी का भी धन्यवाद। राज्यपाल ने एक खत पर ऐक्शन लिया और फ्लोर टेस्ट के लिए कहा। उद्धव ठाकरे ने बागियों को संबोधित करते हुए कहा कि अगर आपने मुझसे बात करने की कोशिश की होती तो मैं जरूर बात करता। मैं आज भी बात करने को तैयार हूं। मैंने आपको अपना माना था। आपसे दगा की उम्मीद नहीं थी। गुरुवार के फ्लोर टेस्ट से मुझे मतलब नहीं है। आपके पास कितनी संख्या है, मुझे मतलब नहीं है। आप शायद विरोधियों का बहुमत सिद्ध ही कर देंगे। जिनको शिवसैनिकों ने बड़ा किया। आपको याद रखना चाहिए कि उस बालासाहेब के बेटे को कुर्सी से उतारने का पुण्य आपने किया है। आपको बड़ा किया यह मेरा पाप है और मैं उसे भोग रहा हूं।

इससे पहले सुप्रीम कोर्ट ने बुधवार रात शिवसेना की दलीलों को खारिज करते हुए गुरुवार को ही फ्लोर टेस्ट कराने का आदेश दे दिया। सुप्रीम कोर्ट ने बुधवार शाम को तीन घंटे 10 मिनट तक चली सुनवाई के बाद यह फैसला दिया। सुप्रीम कोर्ट ने राज्यपाल के फैसले को सही कहा और 30 जून को बहुमत परीक्षण की इजाजत दे दी है। शीर्ष अदालत ने कहा कि विधायकों की अयोग्यता का मामला लंबित होने से फ्लोर टेस्ट नहीं रुक सकता। हालांकि कोर्ट ने जेल में बंद महाराष्ट्र के पूर्व मंत्री नवाब मलिक और अनिल देशमुख को भी वोटिंग में हिस्सा लेने की इजाजत दे दी थी। कोर्ट ने कहा कि दोनों चुने हुए विधायक हैं और उन्हें विधानसभा में वोटिंग के बाद फिर जेल ले जाया जाएगा।

उद्धव कैबिनेट ने दो जिलों के नाम बदले

मुंबई। फ्लोर टेस्ट पर फैसला आने से पहले बुधवार को आयोजित महाराष्ट्र कैबिनेट की बैठक में औरंगाबाद जिला का नाम बदलकर संभाजी नगर कर दिया है, वहीं उस्मानाबाद का नाम बदलकर धाराशिव किया गया है। इसके अलावा नवी मुंबई एयरपोर्ट का नाम डीवाई पाटिल एयरपोर्ट रखा गया। कैबिनेट मीटिंग के बाद उद्धव ठाकरे ने कहा कि उन्हें कांग्रेस और एनसीपी का समर्थन मिला लेकिन दुर्भाग्य से उन्हें अपनी ही पार्टी के लोगों का समर्थन नहीं मिला। सूत्रों के अनुसार कैबिनेट मीटिंग में यह भी सामने आया है कि यदि फ्लोर टेस्ट होता है, तो वह इसका सामना करने से पहले ही इस्तीफा दे देंगे।