कोरोना संक्रमण को लेकर फिलहाल न लॉकडाउन लगेगा और न ही नाइट कर्फ्यू लगेगा: जयराम

हिमाचल प्रदेश में  तेजी से फैल रहे कोरोना संक्रमण के बावजूद जयराम सरकार फिलहाल न लॉकडाउन लगाएगी और न ही नाइट कर्फ्यू लगेगा। कोचिंग सेंटर, मेडिकल और डेंटल कालेज भी यथावत खुले रहेंगे। नवरात्र में भारी भीड़ जुटने के बावजूद मंदिर दर्शनों के लिए खुले रहेेंगे। बसों, निजी वाहनों और टैक्सियों में फुल क्षमता के साथ लोग यात्रा कर सकते हैं। देशभर से आने वाले लोगों के लिए बॉर्डर भी बिना किसी रोक टोक के खुले रहेंगे।

 कारोबारियों की मांग पर पर्यटकों के लिए प्रदेश के बॉर्डर खुले रखने का निर्णय

प्रदेश मंत्रिमंडल में कोरोना की स्थिति पर हुई चर्चा के बाद जयराम सरकार ने आम लोगों को पेश आ रही दिक्कतों और पर्यटन व्यवसायियों के साथ छोटे-मोटे कारोबारियों की मांग पर यह फैसला लिया है। हालांकि राज्य सरकार ने संक्रमण को रोकने के लिए अब एसओपी की सख्ती से पालना पर फोकस किया है। इसके तहत मंत्रिमंडल की बैठक के बाद मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने राज्य के सभी उपायुक्तों, मुख्य चिकित्सा अधिकारियों और पुलिस अधीक्षकों से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से फीडबैक लिया। इस दौरान कांगड़ा, मंडी, शिमला, ऊना, सिरमौर और सोलन जिलों से संक्रमण की स्थिति पर पूछा गया। मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने इस वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग में सभी उपायुक्तों को संक्रमण के प्रति लोगों को जागरूक करने के निर्देश दिए। एसओपी की पालना के लिए पुलिस प्रशासन को कड़े कदम उठाने के लिए कहा गया। इसके बाद मुख्यमंत्री ने मुख्य सचिव सहित अपने उच्चाधिकारियों से भी कोविड पर गहन मंथन किया। इस आधार पर निर्णय लिया गया कि संक्रमण को रोकने के लिए एसओपी की पालना पर अधिक फोकस किया जाएगा। आर्थिकी को प्रभावित किए बिना संक्रमण की चेन ब्रेक की जाएगी।       (एचडीएम)

कांगड़ा में नाइट कर्फ्यू की गुजारिश

डीसी राकेश प्रजापति ने कांगड़ा जिला में नाईट कर्फ्यू लगाने का आग्रह किया। उनका कहना था कि जिला में हर दिन सैकड़ों लोग संक्रमित हो रहे हैं। इसके चलते रात के समय भारी भीड़ पर पाबंदियां लगना जरूरी है। उन्होंने रात्रि आयोजनों का विशेष हवाला देते हुए सरकार का ध्यान इस तरफ आकर्षित किया।

पर्यटकों के लिए कोविड टेस्ट नहीं

डीसी कुल्लू ऋचा वर्मा ने राज्य सरकार का ध्यान आरटी-पीसीआर टेस्ट की तरफ खींचते हुए कहा कि कुल्लू में पर्यटकों की एंट्री के लिए कोई कोविड टेस्ट नहीं है। वापसी के समय पर्यटकों को फ्लाइट लेने के लिए आरटी-पीसीआर जरूरी है। इस दौरान कुछ पर्यटकों की रिपोर्ट पॉजिटिव आ रही है।

आरटीपीसीआर टेस्ट करने के निर्देश

मुख्यमंत्री ने स्वास्थ्य विभाग को 70 फीसदी आरटी-पीसीआर टेस्ट करने के निर्देश दिए हैं। सीएम ने कहा कि हर जिले में ज्यादा से ज्यादा कांटेक्ट ट्रेसिंग के आधार पर कोविड टेस्ट किए जाएं। इसके लिए दिन भर के कुल सैंपलों में रैपिड टेस्ट 30 और आरटीपीसीआर 70 फीसदी की रेशो से होने चाहिए।