कोरोना पॉजिटिव महिला बिना प्रचार के ही बनी पंचायत प्रधान

हिमाचल में पंचायती राज संस्थाओं के चुनाव में जीत के लिए जहां प्रत्याशी एड़ी चोटी का जोर लगा कर भी सफल नहीं हो पा रहे हैं। वहीं, जिला कांगड़ा में एक ऐसी भी पंचायत है, जहां कोरोना पॉजिटिव महिला बिना प्रचार के ही पंचायत प्रधान बन गई है। यह पंचायत हिमाचल प्रदेश के कांगड़ा जिले के धर्मशाला ब्लॉक की शीला-भटेहड़ पंचायत है। इस पंचायत में मंगलवार को दूसरे चरण में मतदान हुआ था। पंचायत में प्रधान पद की उम्मीदवार सुमन बाला कोरोना संक्रमित< होने के कारण घर-घर जाकर चुनाव प्रचार नहीं कर पाई थीं, लेकिन जब परिणाम आया तो जीत का सेहरा उनके सिर सज चुका था।

हालांकि, सुमन बाला ने सोशल मीडिया पर चुनाव प्रचार जरूर किया था। वह फोन पर ही पंचायत के लोगों व ग्रामीणों से बात करती थीं। अन्य उम्मीदवारों की तरह सुमन खुद प्रचार के लिए घर घर नहीं जा सकी थीं। सुमन बाला के लिए उसके पति ने घर घर जाकर लोगों से वोट मांगे थे। बता दें कि चुनाव प्रचार के लिए सुमन ने कोरोना टेस्ट  करवाया था, जिसमें उनकी रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी। इस कारण वह पंचायत में घर-घर जाकर प्रचार नहीं कर सकी थीं। परिजनों और दोस्तों ने अपने स्तर पर सुमन के लिए प्रचार किया था। शीला-भटेहड़ पंचायत में मंगलवार को 87.4 प्रतिशत मतदान हुआ था और 873 लोगों ने वोट डाला था। इनमें सुमन बाला ने 873 में से 347 वोट लेकर दूसरी प्रत्याशी को 92 मतों से हराया है। सुमन बाला ने अपनी जीत का श्रेय पंचायत की जनता और पति को दिया है।