करतारपुर कॉरिडोर: वीजा फ्री यात्रा पर सहमत हुए भारत-PAK, पूरे साल खुला रहेगा

भारत और पाकिस्‍तान #करतारपुर साहिब गलियारे के लिए भारतीय तीर्थयात्रियों को वीजा मुक्‍त यात्रा की अनुमति देने पर सहमत हो गये हैं।

अटारी (अमृतसर):  करतारपुर कॉरिडोर पर भारत और पाकिस्तान के अधिकारियों के बीच तीसरे दौर की वार्ता खत्म हो गई है. भारत के सिख श्रद्धालु अब बिना वीजा के पूरे साल करतारपुर साहिब के दर्शन करने के लिए जा सकेंगे. इस कॉरिडोर के जरिए भारतीय मूल के वैसे लोग जिनके पास OCI (Overseas Citizenship of India) कार्ड है वो भी करतारपुर साहिब के दर्शन के लिए आ-जा सकेंगे. बुधवार को अटारी बॉर्डर पर दोनों देशों के प्रतिनिधियों के बीच बातचीत हुई. हालांकि दो मुद्दे ऐसे रहे जिन पर दोनों देशों के बीच सहमति नहीं बन पाई.

भारत-पाकिस्तान के बीच हुए समझौते के बाद करतारपुर कॉरिडोर के जरिए रोजाना 5000 श्रद्धालु दर्शन के लिए जा सकेंगे. विशेष मौकों पर ज्यादा श्रद्धालु भी यहां पहुंच सकेंगे. पाकिस्तान ने भारत को भरोसा दिलाया है कि वो श्रद्धालुओं की अधिकतम संख्या को करतारपुर कॉरिडोर आने की इजाजत देना चाहता है.

करतारपुर कॉरिडोर साल के 365 दिन खुला रहेगा. श्रद्धालुओं के पास ये विकल्प होगा कि वे अकेले जा सकेंगे या फिर उनके पास समूह में जाने की सुविधा होगी. व्यवस्था के मुताबिक श्रद्धालु पैर ही यहां पर आएंगे. दोनों ही पक्ष बुढ़ी रावी नहर (Channel) पर पुल बनाने को राजी हो गए हैं.

बिना वीज़ा जाने का प्रस्ताव
बता दें कि प्रस्तावित कॉरिडोर पाकिस्तान के करतारपुर स्थित दरबार साहिब को गुरदासपुर जिला स्थित डेरा बाबा नानक गुरुद्वारे से जोड़ेगा. इससे भारत के सिख श्रद्धालु बिना वीज़ा के वहां जा सकेंगे. इन श्रद्धालुओं को करतारपुर साहिब जाने के लिए सिर्फ एक परमिट लेना होगा.

90 प्रतिशत काम पूरा
संयुक्त सचिव स्तर की बैठक में शामिल होने के लिए 20 सदस्यीय पाकिस्तानी प्रतिनिधिमंडल भारत आया था. प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व कर रहे फैसल ने मीटिंग से पहले कहा था, ‘‘ करीब 90 प्रतिशत काम पूरा हो गया है और पाकिस्तान नवम्बर तक गलियारा खोलने को प्रतिबद्ध है.’’