एक बार महासम्मेलन तो करे सरकार, प्रदेश व्यापार मंडल ने मुख्यमंत्री को पत्र लिख मांगा समय

मुख्यमंत्री ने सभी वर्गों किसानों, मजदूरों, युवाओं, बेरोजगारों, महिलाओं, सरकारी कर्मचारियों, अधिकारियों इत्यादि को हजारों करोड़ों रुपए की राहत देकर उनका दिल जीतने की कोशिश की है, लेकिन सिर्फ एक व्यापारी वर्ग ही एक अछूता वर्ग रहा है, जिसकी तरफ ध्यान नही दिया गया है। ये शब्द हिमाचल व्यापार मंडल के अध्यक्ष सुमेश शर्मा ने कहे। श्री शर्मा ने कहा कि हिमाचल के व्यापारियों ने कई बार एक व्यापारी महासम्मेलन के लिए प्रार्थना की थी, लेकिन आश्वासन के सिवा कुछ भी नही मिला है और पिछले पौने पांच साल के कार्यकाल में व्यापारियों के साथ एक भी बैठक करना मुनासिब नहीं समझा गया है। वहीं प्रदेश व्यापार मंडल ने मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर को पत्र प्रेषित किया है, जिसमें उन्होंने हिमाचल के व्यापारियों की हो रही नजरअंदाजी पर रोष व्यक्त किया गया है। समुेश शर्मा ने कहा कि उनकी मांगें पूरी करने से सरकार के राजस्व में कोई भारी कमी नहीं आएगी। जब हिमाचल में सरकार बनी थी, तब सभी व्यापारियों को बहुत उम्मीदें जगी थी। व्यापारियों की एक बहुत ही पुरानी मांग मार्केट फीस को लेकर है, जिसके लिए एक कमेटी भी बना दी थी, जिसने शायद मुख्यमंत्री को आधी-अधूरी रिपोर्ट भी सौंपी होगी। उन्होंने कहा कि विभाग के लोग कभी नहीं चाहेंगे कि मार्केट फीस बंद कर दी जाए। उन्होंने कहा कि कृषि उत्पाद बाजार समिति हिमाचल प्रदेश के उच्च अधिकारी वास्तविक तथ्यों को छुपा कर सरकार को मिसगाइड कर रहे हैं। प्रदेशाध्यक्ष ने मांग उठाई है कि सरकार एक महासम्मेलन व्यापारियों के साथ जरूर करे।