6 महीने से कोरोना वायरस के कारण सुनसान पड़ी पर्यटन नगरी मनाली में रौनक लौट

फाइल फोटो
हिमाचल प्रदेश के बॉर्डर खुलते ही पिछले 6 महीने से कोरोना वायरस के कारण सुनसान पड़ी पर्यटन नगरी मनाली में भी रौनक लौट आई है. प्रदेश के बॉर्डर खुलते ही मनाली के मॉल रोड पर भी पर्यटक चहलकदमी करते हुए नजर आ रह हैं. मनाली में 6 महीनों बाद बढ़ती पर्यटकों की तादाद से पर्यटन कारोबार से जुड़े कारोबारियों के चेहरे भी खिल गए हैं.
पर्यटन कारोबार से जुड़े लोगों का कहना है कि मनाली में पिछले 6 महीनों से कोरोना वायरस के कारण पूरा कारोबार प्रभावित हो गया था जिसका सीधा असर उनकी अजीविका पर पड़ा रहा था. उन्होनें कहा कि हिमाचल प्रदेश सरकार द्वारा प्रदेश के बॉर्डर को खोलने के बाद अब पर्यटकों ने भी मनाली का रूख करना शुरू कर दिया है.

“पर्यटन कारोबार से जुड़े लोगों का कहा है कि मनाली में पर्यटकों के आते ही कारेाबार से जुड़े लोगों के चेहरे भी खिल गए हैं. उम्मीद है कि आने वाले दिनों में पर्यटकों की संख्या में और इजाफा होगा और मनाली का पर्यटन एक बार फिर पहले की तरह पटरी पर लौट आएगा.”

पर्यटन कारेाबार से जुड़े लोगों ने कहा कि सरकार के इस फैसले का वह स्वागत करते हैं लेकिन बॉर्डर पूर्ण रूप से खोलने के बाद कोरोना वायरस का खतरा भी काफी बड़ गया है ऐसे में अब काफी सावधानी बरतने की आवश्यकता है.
वहीं मनाली एसडीएम रमन घरसंगी ने कहा कि प्रदेश सरकार द्वारा हिमाचल प्रदेश की सीमाओं को अब पूरी तरह से खोल दिया गया है. ऐसे में अब प्रदेश के विभिन्न पर्यटन स्थलों में पर्यटकों की आवाजाही भी आरम्भ हो गई है.
मनाली एसडीएम रमन घरसंगी ने घाटी के लोगों से अपील की है कि कोरोना वायरस का खतरा अभी टला नहीं है. ऐसे में लोग सावधानी बरतें और सरकार द्वारा दिए दिशा निर्देशों का पालन करें.