शिमला: SMS से मिलेगा पानी का बिल

वैश्विक महामारी कोरोना वायरस (COVID-19) में जहां आम जनता आर्थिक मंदी के दौर से गुजर रही है, वहीं राजधानी शिमला में शहरवासियों को पानी के भारी भरकम बिल से जूझना पड़ रहा है. हालांकि बिल जारी करने और जमा करने में लिए भले ही शहरवासियों को जल निगम कार्यालय के चक्कर लगाने पड़ रहे हैं लेकिन फिर भी शहरवासियों को पानी के बिल (Water Bill) नहीं मिल पा रहे हैं. कार्यालय पहुंचकर भी पानी के बिल न मिल पाने के चलते शहरवासियों को अब घर बैठे ही पानी के बिल जारी किए जा रहे हैं, लेकिन वे भी कई कई माह के बिल एक साथ जारी किए जा रहे हैं, जिससे लोगों की जेब पर आर्थिक बोझ पड़ रहा है

जल निगम के एमडी धर्मेंद्र गिल ने बताया कि कोरोना वायरस के चलते मेनुअल बिल बनाने की प्रक्रिया बन्द पड़ी है. इसके चलते अब एसएमएस प्रक्रिया के तहत ही बिल जारी किए जा रहे हैं. अभी करीब 20 हजार उपभोक्ताओं को पानी के बिल जारी किए गए हैं. इसके अलावा करीब 15 हजार पेयजल उपभोक्ताओं ऐसे हैं जिनके मोबाइल नम्बर नहीं हैं. उन्हें पानी के बिल सम्बंधित वार्ड के कनिष्ठ अभियंता के कार्यालय से ही जारी किए जाएंगे. उन्होंने बताया कि पानी के बिल हर माह जारी करने के लिए एमएमएस प्रक्रिया अपनाई जा रही है, ताकि लोगों को घर बैठे ही पानी के बिल मिल सके.

उपभोक्ताओं को परेशानी
राजधानी शिमला में पानी का जिम्मा संभाल रहा जल निगम करीब तीन साल से शहरवासियों को पानी के बिल हर माह जारी नहीं कर पाया है. इसका खामियाजा पेयजल उपभोक्ताओं को भुक्तना पड़ रहा है. पानी के बिल जारी करने वाले ठेकेदार के साथ जल निगम का करार 31 मार्च को ही समाप्त हो गया था, लेकिन कोरोना वायरस के चलते न तो नए ठेकेदार ने पानी की बिल जारी किए और न ही मीटर रीडिंग की प्रक्रिया की. इससे शहरवासियों को पानी के बिल के लिए दर-दर की ठोकरें खानी पड़ रही है.