शिमला: बाहरी राज्यों से छात्र परीक्षा देने आने के लिए ऐसे करें पंजीकरण

शिमला: कोरोना काल (COVID-19) में राजधानी शिमला (Shimla) में यदि कोई छात्र बाहरी राज्यों से प्रतियोगी परीक्षा देने आ रहा है तो उसे जिले की सीमाओं पर अपना-अलग से पंजीकरण करवाना अनिवार्य नहीं होगा. अनलॉक-4 (Unlock-4) में सरकार की नई गाइडलाइन के अनुसार प्रतियोगी परीक्षा में भाग लेने वाले छात्र अपना रोल नम्बर दिखाकर अपना पंजीकरण 72 घंटे के लिए कर सकेंगे. डीसी शिमला अमित कश्यप ने बताया कि अनलॉक -4 में जहां आम जनता के लिए सीमाओं के भीतर प्रवेश करने के लिए 96 घंटे पहले की कोरोना नेगेटिव रिपोर्ट दिखाना अनिवार्य है. वहीं उसे सीमाओं पर अपना पंजीकरण करवाना भी जरूरी है. उन्होंने बताया कि इसके अलावा जो व्यक्ति 48 घंटे के लिए सीमाओं के भीतर ऑफिशियल या अपने निजी कार्यों से आ रहा है तो उसे क्वारन्टीन नहीं होना पड़ेगा. जबकि जो व्यक्ति बाहरी राज्यों से यहां लंबे समय के लिए आ रहा है तो उसे क्वारन्टीन होना पड़ेगा. साथ ही एक सप्ताह के भीतर कोविड टेस्ट करवाना पड़ेगा ताकि वायरस को रोक जा सके.

72 घंटे तक वैध होगा छात्रों का पंजीकरण: डीसी
डीसी शिमला अमित कश्यप ने बताया कि इसके अलावा अनलॉक -4 में राजधानी शिमला में प्रतियोगी परीक्षा के लिए दूसरे राज्यों से आने वाले छात्रों को न तो पंजीकरण के लिए अन्य नम्बर लेना होगा और न ही किसी तरह के कोरोना नेगेटिव रिपोर्ट की आवश्यकता है. उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस से बचने के लिए सभी व्यक्ति को कोरोना नेगेटिव रिपोर्ट दिखाना अनिवार्य है. परीक्षार्थी का रोलनम्बर पंजीयन 72 घंटे के लिए करना अनिवार्य होगा जहां 72 घंटे बाद वे वापिस लौट सकें.

बता दें कि हिमाचल प्रदेश में कोरोना ने 48वीं जान ले ली है. 72 साल की महिला ने दम तोड़ा है. सिरमौर जिले में यह डेथ रिपोर्ट हुई है. सिरमौर जिले के नाहन मेडिकल कॉलेज में भर्ती 72 वर्षीय बुजुर्ग महिला की जान गई है. स्वास्थ्य विभाग की टीम की निगरानी में पांवटा के किशनपुरा निवासी मृतक महिला का दाह संस्कार कर दिया गया है. वहीं, प्रदेश में शुक्रवार दोपहर एक बजे तक कोरोना के 46 नए मामले रिपोर्ट हुए हैं. इनमें चंबा में सबसे अधिक 31 मामले आए हैं. इसके अलावा, 12 मामले मंडी और एक मामला शिमला में रिपोर्ट हुए है.