प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हिमाचल प्रदेश के रोहतांग में अटल सुरंग का किया उद्घाटन

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Modi) आज हिमाचल प्रदेश के रोहतांग (Rohtang) में अटल सुरंग (Atal Surang) का उद्घाटन किया. सामरिक रूप से भारत के लिए यह सुरंग बेहद की महत्पूर्ण है. इस सुरंग के शुरु हो जाने से इस सुरंग के कारण मनाली (Manali) और लेह (leh) के बीच की दूरी 46 किलोमीटर कम हो जाएगी और यात्रा का समय भी चार से पांच घंटे कम हो जाएगा. अधिकारियों ने बताया कि लाहौल स्पीति के सीसू में उद्घाटन समारोह के बाद मोदी सोलांग घाटी में एक सार्वजनिक कार्यक्रम में हिस्सा लेंगे. उद्घाटन समारोह में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह भी मौजूद हैं. अटल सुरंग दुनिया की सबसे लंबी राजमार्ग सुरंग है
बॉर्डर हितों का ख्याल रखना सरकार की प्राथमिकता है: पीएम मोदी
बोगीबिल आज नॉर्थ इस्ट और अरुणाचल प्रदेश के बीच संपर्क स्थापित करता है. पर अटल जी की सरकार जाने के बाद इसका भी निर्माण कार्य रुक गया था, 2014 के बाद इसमें तेजी आयी. अब स्थिति बदल रही है. बॉर्डर इंफ्रास्ट्रक्चर के विकास के लिए पूरी ताकत लगा दी गयी है. दर्जनों प्रोजेक्ट शुरु हो चुके हैं और कई काम चल रहा है. इन क्षेत्रों में देश में इतने बड़े पैमाने पर कभी काम नहीं हुआ.

कनेक्टिविटी का देश के विकास से ज्यादा संबंध: पीएम मोदी
लंबे समय तक बॉर्डर से जुड़े इंफ्रास्ट्रक्चर के प्रोजेक्ट आये ही या फिर आये तो बने ही नहीं. साल 2002 में अटल जी ने इसके लिए कनेक्टिविटी रोड का निर्माण किया था. पर उनकी सरकार जाने के बाद काम बंद हो गया. जिस रफ्तार से काम हो रहा था उस हिसाब से यह काम 2040 में यह निर्माण कार्य पूरा होता. पर 2014 के इस काम में तेजी लायी गयी. बीआरओ की समस्याएं दूर की गयी. इसके बाद 1400 मीटर प्रतिवर्ष की रफ्तार से काम हुआ.
देश की रक्षा सबस ज्यादा महत्वपूर्ण: पीएम मोदी
हमारे लिए देश की रक्षा से ज्यादा महत्वपूर्ण कुछ नहीं है. लेकिन देश ने यह भी देखा है कि एक ऐसा समय जब देश के रक्षा हितों से समझौता किया गया था
प्रर्यटन को मिलेगा बढ़ावा : जयराम ठाकुर, मुख्यमंत्री
हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने कहा कि आज इस ऐतिहासिक अवसर पर देश का सपना पूरा हुआ. देश के लिए हिमाचल का योगदान बहुत ज्यादा है. देश के लिए किसी भी योगदान मं हिमाचल पीछे नहीं है. इसके बन जाने के पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा. लाहौल स्पीति को लोगों की परेशानी दूर होगी. टनल के निर्माण से दुनिया भर में इंजीनियरिंग के बेहतरीन मिसाल पेश की.