मानसून सत्र: उद्योगों से संबंधित तीन संशोधन विधेयक सदन में पारित

हिमाचल विधानसभा मानसून सत्र के छठे दिन सोमवार को निवेशकों को आकर्षित करने के लिए भारी हंगामे के बीच उद्योगों से संबंधित तीन संशोधन विधेयक सदन में पारित कर दिए गए। सरकार अध्यादेश लाकर इन्हें लागू कर चुकी है लेकिन सदन में बिल के रूप में पेश किए गए थे। विपक्ष के विधायक जगत सिंह नेगी, सुखविंद्र सिंह सुक्खू और माकपा विधायक राकेश सिंघा ने संशोधन प्रस्ताव पेश किए। इन प्रस्तावों पर चर्चा हुई और मंत्री ने जवाब दिए। उद्योग मंत्री बिक्रम सिंह ठाकुर के जवाब से असंतोष जताते हुए विपक्ष ने सदन से वाकआउट कर दिया। माकपा विधायक राकेश सिंघा ने भी कांग्रेस विधायक दल के साथ सदन से वाकआउट कर दिया। हालांकि, निर्दलीय विधायक होशियार सिंह इन विधेयकों का समर्थन करते रहे।

इससे पहले दोपहर दो बजे सदन की बैठक शुरू होते ही प्रश्नकाल से पहले विपक्ष ने कुल्लू के कांग्रेस विधायक सुंदर सिंह ठाकुर को परेशान करने के आरोप लगाए। विपक्ष ने एसपी कुल्लू को हटाने की मांग उठाई। नेता विपक्ष मुकेश अग्निहोत्री ने एसपी कुल्लू पर मुख्य सचिव के निर्देशों की अनदेखी करते हुए विधायक को जानबूझकर विधानसभा सत्र के बीच कुल्लू में रोकने का आरोप लगाया। मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर स्थिति स्पष्ट करने के लिए खड़े हुए तो विपक्ष ने नारेबाजी कर हंगामा शुरू कर दिया। मुख्यमंत्री के जवाब से असंतुष्ट विपक्ष नारेबाजी करता हुआ सदन से बाहर चला गया। सीएम ने कहा कि मामला कोर्ट में है। कांग्रेस जितना इस मामले को उठाएगी, विधायक की परेशानियां उतनी ही बढ़ेंगी।

नए विधेयकों में क्या

  • हिमाचल प्रदेश ठेका श्रम विनियमन और उत्सादन अधिनियम संशोधन विधेयक
  • उद्योगों में अब उत्पादन की जरूरत के अनुसार कामगार रखे जा सकेंगे
  • बीस या बीस से अधिक कामगारों को एक साल तक अनुबंध पर रखा जा सकेगा
  • बीस से कम कामगारों का रिकॉर्ड नहीं रखना होगा

हिमाचल प्रदेश औद्योगिक विवाद संशोधन विधेयक 2020 

  • उद्योगों के विवादों को सुलझाने को सरल कर दिया गया है
  • मेक इन इंडिया कार्यक्रम के अनुसार देश-प्रदेश में कारोबार करने की सुगमता
  • 200 कामगारों तक के उद्योगों को कुछ समय बंद करने को सरकार से मंजूरी की जरूरत नहीं

हिमाचल प्रदेश कारखाना संशोधन विधेयक 2020 

  • कारखाने में दस से अधिक लोग काम करते हैं और बिजली का इस्तेमाल कर सामान तैयार नहीं होता है तो वहां बीस मजदूर रख सकेंगे
  • कारखानों में बिजली का उपयोग किया जाता है और वहां बीस कामगार काम करते हैं तो ऐसे कारखानों में चालीस कामगार रखे जा सकेंगे
  • मजदूरों को 115 दिन का ओवरटाइम और दोगुनी मजदूरी दी जा सकेगी

 

यहां भी पढ़े
हिमाचल कोरोना अपडेट : प्रदेश में पांच की गई जान, 364 और लोग वायरस की चपेट में
सेना भर्ती की लिखित परीक्षा में पास हुए युवाओं को कोरोना टेस्ट रिपोर्ट लानी होगी, तभी भेजा जाएगा ट्रेनिंग सेंटर