महबूबा मुफ्ती को झटका, पार्टी के संस्थापक सदस्य मुजफ्फर हुसैन बेग ने पीडीपी से इस्तीफा दिया

जम्मू-कश्मीर में महबूबा मुफ्ती की पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (पीडीपी) को बड़ा झटका लगा है। पार्टी के संस्थापक सदस्य मुजफ्फर हुसैन बेग ने पीडीपी से इस्तीफा दे दिया है। बेग के इस्तीफे के पीछे की वजह ‘पीपुल्स अलायंस फॉर गुपकार डिक्लेरेशन'(पीएजीडी) के अन्य दलों के साथ सीटें साझा करने के समझौते को लेकर नाखुश होना है। जम्मू-कश्मीर में जिला विकास परिषद (डीडीसी) चुनाव होने वाले हैं।
बेग ने कहा, ‘नेशनल कॉन्फ्रेंस ज्यादा सीटों पर चुनाव लड़ रही है। इस तरह ये पीडीपी के हितों में नहीं है। मैं फारूक अब्दुल्ला, महबूबा मुफ्ती का सम्मान करता हूं और उन्हें शुभकामनाएं देता हूं। मैं सिद्धांतों पर पीडीपी छोड़ रहा हूं।’ उन्होंने यह भी कहा कि पीएजीडी से संबंधित दलों के साथ सीटें साझा करने के समझौते के बारे में उनसे सलाह नहीं ली गई थी।
बेग ने कहा, ‘मैंने उन्हें (महबूबा) बुलाया और पीडीपी से संरक्षक और सदस्य के रूप में इस्तीफे के बारे में बताया।’ अपने भविष्य को लेकर वरिष्ठ नेता ने कहा, ‘मैं अपनी भविष्य की रणनीति के बारे में अपने दोस्तों और शुभचिंतकों से सलाह लूंगा।’
बता दें, मुजफ्फर बेग साल 1998 यानी कि पार्टी की स्थापना के समय से ही पीडीपी से जुड़े हुए हैं। पीएजीडी में नेशनल कॉन्फ्रेंस, पीडीपी, पीपुल्स कॉन्फ्रेंस और सीपीएम शामिल हैं। इस बात की चर्चा है कि इसके गठन के पीछे का मकसद चुनाव में बढ़त हासिल करना या पार्टी के हितों को बढ़ाना है, तो यह सरासर गलत है। कांग्रेस पहले ही पीएजीडी को अपना समर्थन दे चुकी है।