वर्ष 1962, 1965 और 1971 के युद्धों में भाग लेने वाले मेजर जनरल (सेवानिवृत्त) आरएन छिब्बर का निधन

वर्ष 1962, 1965 और 1971 के युद्धों में भाग लेने वाले मेजर जनरल (सेवानिवृत्त) आरएन छिब्बर का शनिवार को उनके आवास पर निधन हो गया। एक रक्षा प्रवक्ता ने रविवार को यह जानकारी दी।  वह 86 वर्ष के थे। छिब्बर का जन्म 23 सितंबर, 1934 को हुआ था। जनरल छिब्बर 1972 से 1975 तक एक सैनिक अताशे के रूप में अफगानिस्तान में तैनात रहे।
प्रवक्ता ने कहा, ‘‘वह एक उत्कृष्ट अधिकारी थे, जिन्होंने 8 जाट रेजिमेंट की कमान भी संभाली थी। उनकी विशेषज्ञता और असाधारण रणनीति ने उन्हें एक शानदार अधिकारी बनाया।’’ उन्होंने कहा कि जनरल छिब्बर ने शनिवार को जम्मू के कालूचक इलाके में शांति विहार स्थित अपने आवास पर अंतिम सांस ली। उन्हें पूरे सम्मान के साथ सैन्य विदाई दी गई।
प्रवक्ता ने कहा, ‘‘जनरल छिब्बर न केवल असाधारण योग्यता वाले अधिकारी थे, बल्कि एक मानवतावादी और बेहद दयालु व्यक्ति थे। उन्हें विशिष्ट सेवा के लिए विशिष्ट सेवा पदक (वीएसएम) से सम्मानित किया गया था।’’ उन्होंने कहा कि जनरल छिब्बर अपने पूरे करियर में सैनिकों और उनके परिवारों के उत्थान के लिए काम करते रहे।
उनके सहयोगी कर्नल माखन सिंह गिल ने कहा, “जनरल छिब्बर एक महान सैनिक थे, एक बहुत ही सम्मानित और प्रशंसित अधिकारी थे और जो उन्हें जानते थे, उनसे बहुत प्यार करते थे। अपनी सेवानिवृत्ति के तीन दशक बाद भी वह इतने सारे लोगों के दिलों में बसे हुए हैं।”