लक्षण वाले कोविड मरीजों का इलाज घरों में होगा, होम आइसोलेनश के प्रति जागरूकता जरुरी : मुख्यमंत्री

मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने कहा कि बिना लक्षण वाले कोविड मरीजों का इलाज घरों में होगा। इसके तहत लोगों को होम आइसोलेशन के प्रति जागरूक किया जाएगा। सदन में कोविड के नए प्रबंधों पर अपना वक्तव्य जारी करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि अब कोविड मरीजों को नए प्रोटोकॉल में बिना टेस्ट के घर भेजने का प्रावधान किया गया है। इसके तहत अस्पताल में भर्ती किसी कोविड मरीज को दस दिन के सर्किल के अंतिम तीन दिन में कोई लक्षण नहीं दिखता है, तो उसे बिना टेस्ट के घर भेजा जा सकता है। सीएम जयराम ठाकुर ने कहा कि सरकार प्रदेश की जनता को होम आइसोलेनश के प्रति जागरूक कर रही है, ताकि अस्पतालों पर बढ़ रहे कोविड मरीजों के अतिरिक्त बोझ को कम किया जा सके।
इसके अलावा सीएम ने कहा कि बहुत से लोग शुरुआती लक्षण जैसे बुखार, खांसी, जुकाम इत्यादि होने के बावजूद घर में ही इलाज करने की कोशिश कर रहे हैं। हालांकि लक्षणों में एकदम बढ़ोतरी होने के बाद वे अस्पतालों का रुख कर रहे हैं, जब तक कि बहुत देर हो चुकी होती है। जिसके चलते बीमारी के ज्यादा बढ़ जाने से उनकी मौत हो रही है, जोकि प्रदेश के लिए चिंता का विषय है। ऐसे में लोगों को भी जागरूक होने की जरूरत है। अगर किसी को भी कोविड-19 के हलके लक्षण दिखते हैं, तो तुरंत टेस्ट के लिए नजदीकी अस्पताल पहुंचें, ताकि समय रहते पॉजिटिव मरीजों का उपचार हो सके।

पूर्वी लद्दाख क्षेत्र में किसी भी चुनौती से निपटने के लिए सेना अत्याधुनिक प्रौद्योगिकी और उपकरणों के साथ पूरी तरह से तैयार