देश में कोविड से स्‍वस्‍थ होने की दर बढकर 92% से अधिक हुई

देश में 76 लाख लाख से अधिक लोग कोरोना से ठीक हो चुके हैं, जो एक नई उपलब्धि है। ठीक होने वालों की दर 92‍ प्रतिशत से अधिक हो गई है। पिछले 24 घंटे के दौरान 53 हजार लोग कोरोना से ठीक हुए जबकि 46 हजार नए मामले सामने आए। सक्रिय मरीजों की संख्‍या देश में कुल संक्रमित हुए लोगों के 6 दशमलव 5 प्रतिशत से भी कम हो गई है। देश में इस समय करीब 5 लाख 33 हजार कोरोना के मरीज हैं। सरकार और विभिन्‍न संगठनों के संयुक्‍त प्रयास से कोरोना पर काफी नियंत्रण पाया गया है और इससे मरने वालों की दर एक दशमलव चार- नौ प्रतिशत रह गई है। स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय ने बताया है कि पिछले 24 घंटे के दौरान कोविड संक्रमण से 514 मौत हुए हैं। इनमें से 75 प्रतिशत 10 राज्‍यों और केन्‍द्रशासित प्रदेशों के लोग थे।

देश ने कोविड-19 परीक्षण के मामले में एक और उपलब्धि हासिल कर ली है। पिछले 24 घंटों में करीब 12 लाख दस हजार कोविड नमूनों का परीक्षण किया गया है। इसके साथ कुल परीक्षणों की संख्‍या बढ़कर 11 करोड़ तीस लाख हो गई है। केन्‍द्र सरकार और भारतीय चिकित्‍सा अनुसंधान परिषद ने सुनियोजित तरीके से परीक्षण सुविधाओं में बढ़ोतरी की है। जिससे भारत में प्रतिदिन परीक्षण की क्षमता 15 लाख तक पहुंच गई है, इससे सबके लिए कोविड-19 की जांच सुगमता से उपलब्‍ध हो गई है।

स्‍वस्‍थ मंत्रालय ने कहा है कि परीक्षणों की उच्‍च संख्‍या से कोविड-19 मामलों के प्रभावी इलाज, तत्‍काल आइसोलेशन और शुरूआती दौर में ही संक्रमण की पहचान को संभव बना दिया है। इससे मृत्‍यु दर में भी कमी आई है।पुणे में इस वर्ष जनवरी में नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी में सिर्फ एक परीक्षण प्रयोगशाला थी, जहां से शुरू होकर देश में आज कोविड नमूनों के परीक्षण के लिए दो हजार 45 प्रयोगशालाएं हैं, जिनमें एक हजार 134 सरकारी और 911 निजी प्रयोगशालाएं शामिल हैं।