भारतीय वायु सेना दो मोर्चे के युद्ध सहित किसी भी संभावित संघर्ष के लिए तैयार: IAF प्रमुख

भारतीय वायु सेना दो मोर्चे के युद्ध सहित किसी भी संभावित संघर्ष के लिए तैयार है ये बात IAF प्रमुख एयर चीफ मार्शल आरकेएस भदौरिया इस बात पर कि पाकिस्तान और चीन के साथ दो-तरफा युद्ध के लिए तैयार है। IAF प्रमुख ने कहा की एक विश्वसनीय लड़ाकू-तैयार बल के रूप में हमारी स्थिति महत्वपूर्ण है, जिसे देखते हुए वायु सेना भविष्य में किसी भी संघर्ष में जीत सुनिश्चित करने की भूमिका निभाएगी।

लद्दाख सीमा पर जारी तनाव के बीच वायुसेना प्रमुख आरकेएस भदौरिया का बड़ा बयान सामने आया है. वायुसेना चीफ ने कहा है कि भारत उत्तर भारत में दोनों फ्रंट पर युद्ध के लिए तैयार है. यानी चीन और पाकिस्तान की ओर से जो तनाव की स्थिति बन रही है, उसपर भारत हर तरीके से मुस्तैद है.

वायुसेना चीफ ने कहा कि राफेल के आने से वायुसेना की ताकत बढ़ी है और ये हमें आगे तक मजबूत करेगा. इससे हम जल्दी और ठोस कार्रवाई कर पाएंगे. उन्होंने कहा कि अगले पांच साल में तेजस, कॉम्बैट हेलिकॉप्टर, ट्रेनर एयरक्राफ्ट समेत कई अन्य ताकतवर हथियार वायुसेना की ताकत बनेंगे.

हमने राफेल्स, चिनूक, अपाचे का परिचालन किया है और उन्हें रिकॉर्ड समय में संचालन की हमारी अवधारणा के साथ एकीकृत किया है। अगले 3 साल में हम राफेल और एलसीए मार्क 1 स्क्वाड्रन को पूरी ताकत के साथ चालू करेंगे, साथ ही अतिरिक्त मिग -29 को वर्तमान बेड़े के अलावा आदेश दिया जाएगा। हमारे पड़ोस में और आस-पास के क्षेत्रों में उभरते खतरे की स्थिति को युद्ध के पूरे स्पेक्ट्रम में लड़ने के लिए एक मजबूत क्षमता की आवश्यकता है। मैं आपके साथ विश्वास के साथ साझा कर सकता हूं कि परिचालन के साथ, हम सबसे अच्छे हैं।

आरकेएस भदौरिया ने कहा कि वायुसेना भारत और चीन के साथ दोनों फ्रंट पर एक साथ जंग के लिए पूरी तरह से तैयार है. उन्होंने कहा कि चीन की हरकत के बारे में मई में ही पता लग गया था, तभी से ही भारतीय सेना और वायुसेना की ओर से एक्शन लिया गया.

वायुसेना प्रमुख बोले कि ईस्टर्न फ्रंट पर वायुसेना मुस्तैद है और ऐसा कोई सवाल ही नहीं होता कि चीन हमसे किसी भी तरह से बेहतर स्थिति में हो. उन्होंने कहा कि वक्त के साथ वायुसेना ने बहुत तेजी से बदलाव किए हैं और अब काफी हदतक कमियों को दूर कर लिया गया है.