हिमाचल: शादी-ब्याह जैसे आयोजनोें में लोगों की संख्या फिर सीमित करने को लेकर जल्द जारी होंगे आदेश

हिमाचल प्रदेश में शादी-ब्याह जैसे आयोजनोें में लोगों की संख्या फिर सीमित करने को लेकर जल्द ही आदेश जारी होंगे। जो प्रावधान पहले थे, उन्हें कुछ बदलावों के साथ फिर से लागू किया जा सकता है, जिसकी हिदायत मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने अधिकारियों को दी है। साथ ही नियमों की अनुपालना को सख्त करने को कहा गया है, क्योंकि पिछले कई दिनों से लगातार प्रदेश में कोरोना से मौतों का ग्राफ बढ़ता जा रहा है। रविवार को मुख्यमंत्री ने प्रदेश के जिलाधीशों, पुलिस अधीक्षकों, मुख्य चिकित्सा अधिकारियों, राजकीय चिकित्सा महाविद्यालयों के चिकित्सा अधीक्षकों और प्रधानाचार्यों के साथ वीडियो कान्फ्रेंस की। उन्होंने प्रदेश में पिछले कुछ दिनों से कोविड-19 के मामलों की संख्या में वृद्धि और कोविड-19 मरीजों की मृत्यु पर चिंता व्यक्त की। मुख्यमंत्री ने कहा कि संक्रमित व्यक्तियों की कांटेक्ट ट्रेसिंग पर विशेष बल दिया जाना चाहिए, ताकि तत्काल निवारक कदम उठाए जा सकें।

डाक्टरों को विशेष रूप से अन्य बीमारियों से ग्रसित रोगियों का उचित उपचार सुनिश्चित करना चाहिए। मौसम में बदलाव के कारण यह संक्रमण तेजी से फैल रहा है। उन्होंने कहा कि वरिष्ठ चिकित्सकों को मरीजों में विश्वास जगाने के लिए कोविड मरीज के वार्ड का कम से कम तीन बार दौरा सुनिश्चित करना चाहिए। होम आइसोलेशन के तहत लक्षण रहित मरीजों के इलाज के लिए उचित दिशा-निर्देशों को अपनाना चाहिए। उन्होंने कहा कि इन रोगियों के लिए पल्स ऑक्सीमीटर की पर्याप्त व्यवस्था की जानी चाहिए, ताकि वे नियमित रूप से रक्त में ऑक्सीजन के स्तर को जांच सकें। मुख्यमंत्री ने कहा कि यह महसूस किया गया है कि इस संक्रमण के प्रसार का मुख्य कारण निर्धारित एसओपी के पालन में लोगों द्वारा बरती गई लापरवाही है। सामाजिक समारोह के कारण राज्य में कोविड मामलों में वृद्धि हो रही है। मैरिज हॉल और सामुदायिक केंद्रों में होने वाले सामाजिक कार्यों में बड़ी संख्या में लोगों के इकट्ठा होने के परिणामस्वरूप कोरोना वायरस की संख्या में वृद्धि हुई है।

उन्होंने कहा कि विवाह और धाम जैसे सामाजिक समारोहों में संक्रमित होने की अधिक आशंका के बारे में लोगों को जागरूक करने पर अधिक ध्यान केंद्रित किया जाना चाहिए। पूरे प्रदेश में इस संक्रमण को लेकर लोगों को जागरूक करने के लिए एक संगठित अभियान शुरू किया जाना चाहिए। इससे पहले सचिव स्वास्थ्य अमिताभ अवस्थी ने इस अवसर पर मुख्यमंत्री और अन्य अधिकारियों का स्वागत किया। उन्होंने कहा कि विशेष रूप से मंडी और शिमला जिले में कोविड मामलों की बढ़ती संख्या के कारणों का पता लगाने के लिए विशेष जिला योजना तैयार करने की आवश्यकता है। बैठक में अतिरिक्त मुख्य सचिव राजस्व आरडी धीमान, सचिव देवेश कुमार, निदेशक स्वास्थ्य सेवाएं डा. बीबी कटोच और अन्य अधिकारी भी उपस्थित थे।