हिमाचल: घर-घर जाकर कोरोना मरीजों की जाएगी पहचान

हिमाचल में अब घर-घर जाकर कोरोना मरीजों की पहचान की जाएगी। इसके लिए सरकार पुरानी प्रक्रिया को अपनाने जा रही है। 18 नवंबर से स्वास्थ्य और आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं के अलावा पीएचसी व सीएचसी में तैनात डॉक्टर भी घर-घर जाकर कोरोना से लक्षणों वाले मरीजों की पहचान करेंगे। यह अभियान करीब एक महीने तक चलेगा। कोरोना के लक्षणों वाले मरीजों की पहचान करने के बाद इनके सैंपल लिए जाएंगे। कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आने पर इन्हें अस्पताल लाया जाएगा। प्रदेश सरकार ने इसका खाका तैयार कर लिया है। इसी सप्ताह सभी डीसी और जिला चिकित्सा अधिकारियों को शेड्यूल जारी कर दिया जाएगा।

प्रदेश के तीन जिलों में कोरोना संक्रमण के मामले लगातार बढ़ रहे हैं। इनमें मुख्यमंत्री का गृह जिला मंडी, शिमला और कुल्लू शामिल हैं। इन तीनों जिलों में एक सप्ताह से काफी मामले बढ़े हैं। जिला शिमला में 683, मंडी 615 और कुल्लू जिले में 556 एक्टिव मामले हैं। हिमाचल में कोरोना से 359 लोगों की मौत हो चुकी है। जिला शिमला में सबसे ज्यादा 82 और कांगड़ा में 74 मौतें हुई हैं। सरकार ने भी स्वास्थ्य विभाग को मामलों पर अंकुश लगाने के साथ सैंपल की संख्या बढ़ाने के निर्देश दिए हैं। स्वास्थ्य मंत्री डॉ राजीव सैजल ने बताया कि सरकारी दफ्तर में अधिकारियों और कर्मचारियों की रैंडम सैंपलिंग के लिए कहा है।