हिमाचल: कोरोना से डॉक्टर की पहली मौत

सांकेतिक तस्वीर
हिमाचल प्रदेश में कोरोना से डॉक्टर की पहली मौत हुई है। नेरचौक मेडिकल कॉलेज के सामुदायिक चिकित्सा विभाग के कोरोना पॉजिटिव अध्यक्ष का पीजीआई चंडीगढ़ में निधन हो गया। कोरोना की चपेट में आने पर उन्हें वेंटिलेटर पर रखा गया था। बेटी के पॉजिटिव होने से वह संक्रमित हुए थे।
मंडी में कोरोना से तीन की मौत हुई है। बिलासपुर के कोरोना संक्रमित एड्स रोगी ने  नेरचौक मेडिकल कालेज में दम तोड़ दिया। कहनवाल की संक्रमित महिला ने रविवार को दम तोड़ दिया। जिले में रविवार को 18 कोरोना पॉजिटिव मामले आए हैं। विधायक राकेश जम्वाल का पीएसओ भी कोरोना पॉजिटिव पाया गया है। वह पिछले 10 दिनों से क्वारंटीन था।
कांगड़ा में 6 कोरोना पॉजिटिव मामले आए हैं। कांगड़ा जिले में रविवार को दो कोरोना मरीजों की मौत हो गई। कोहला की 65 वर्षीय बुजुर्ग महिला ने दम तोड़ दिया। बुजुर्ग महिला को शूगर की भी दिक्कत थी। मस्तपुर की 60 वर्षीय कोरोना पॉजिटिव बुजुर्ग महिला की भी मौत हो गई।मनाली गांव में एक व्यक्ति की मौत बाद रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आई है। प्रशासन ने मनाली गांव और पंचायत के कुछ वार्डों को कंटेनमेंट और बफर जोन घोषित किया है।
कुल्लू जिले में कोरोना का कहर जारी है। रविवार को तीन युवकों की रिपोर्ट भी पॉजिटिव आई है। यह सभी अपने दिल्ली के एक दोस्त के संपर्क  में आए हैं।  हरिपुर, खरग्रां और बलगानी गांव में संक्रमण के मामले आने के बाद गांवों में डर का माहौल है।
प्रशासन ने तीन गांवों को कंटेनमेंट जोन बनाने की तैयारी शुरू कर दी है। स्वास्थ्य विभाग द्वारा लोगों को मास्क पहनने और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने को कहा जा रहा है।