हिमाचल : कंडक्टर भर्ती एक बार फिर विवादों में

हिमाचल प्रदेश में कंडक्टर भर्ती एक बार फिर विवादों में आ गई है। रविवार को प्रदेशभर में कर्मचारी चयन आयोग के माध्यम से कंडक्टर भर्ती के लिए परीक्षा का आयोजन किया गया। शिमला के एपी गोयल विवि सेंटर से कंडक्टर भर्ती परीक्षा देने पहुंचे अभ्यर्थी ने मोबाइल से तस्वीरें लेकर पेपर व्हाट्सएप पर आगे भेज दिया। अभ्यर्थी ने कितने लोगों के व्हाट्सएप पर पेपर आगे भेजा इसकी छानबीन जारी है। मामले की जांच एसडीएम को सौंपी गई है।
पुलिस ने केस दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। सोलन में भी एक अभ्यर्थी को परीक्षा हाल में मोबाइल के साथ पकड़ा गया। एक ने अभ्यर्थी ओएमआर शीट भी सोशल मीडिया पर वायरल की है। कर्मचारी चयन आयोग ने दावा किया है कि पेपर लीक नहीं हुआ है। शिमला में पेपर वायरल करने वाला अभ्यर्थी तीन साल तक कोई परीक्षा नहीं दे पाएगा। सोलन के आरोपी अभ्यर्थी को भी अपात्र घोषित किया गया है।
304 परीक्षा केंद्र, 60 हजार अभ्यर्थी  
प्रदेश कर्मचारी चयन आयोग ने परिवहन निगम में अनुबंध आधार पर कंडक्टरों के 568 पदों को भरने के जिए 31 दिसंबर 2019 से 30 जनवरी 2020 तक ऑनलाइन आवेदन मांगे थे। सामान्य वर्ग के लिए 223 पद, अनुसूचित जाति के लिए 110, अनुसूचित जनजाति के लिए 19 और ओबीसी के लिए 85 पदों के अलावा स्वतंत्रता सेनानी और बीपीएल के लिए अलग से पद आरक्षित हैं। चयनित होने वाले अभ्यर्थी को मासिक 5910-20200 रुपये वेतन और 2400 रुपये ग्रेड-पे मिलेगा। रविवार को ली गई परीक्षा में 304 केंद्र बनाए गए थे। इसके लिए 60 हजार अभ्यर्थियों को कॉल लेटर भेजे गए।