हिमाचल : खोले जायेंगे राज्य के बड़े मंदिरों और धार्मिक स्थल

मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर की अध्यक्षता में शुक्रवार को हुई हिमाचल मंत्रिमंडल की बैठक में 15 सितंबर, 2020 तक राज्य में प्रवेश करने वाले लोगों के लिए पंजीकरण जारी रखने का निर्णय लिया गया। वहीं कैबिनेट ने 10 सितंबर, 2020 तक राज्य के बड़े मंदिरों / धार्मिक स्थलों को खोलने का निर्णय लिया। भाषा, कला एवं संस्कृति विभाग इस संबंध में मानक संचालन प्रक्रिया(एसओपी) तैयार करेगा। यह भी निर्णय लिया गया कि संगरोध की आवश्यकता को 14 दिन से घटाकर 10 दिन किया जाए। जिला प्रशासन क्षेत्र में मास्क और सामाजिक दूरी के नियम को सख्ती से लागू करेगा।

मंत्रिमंडल ने सार्वजनिक वितरण प्रणाली के तहत आयकरदाता एपीएल उपभोक्ताओं को गेहूं का आटा और चावल प्रदान करने का निर्णय लिया, जैसा कि उन्हें पहले एपीएल दरों पर प्रदान किया जा रहा था। साथ ही वास्तविक दरों पर दाल, खाद्य तेल, नमक और चीनी प्रदान किया जाएगा।

शहरी प्रवासियों/ गरीबों के लिए कम किराये के आवास समाधानों के लिए एक स्थायी पारिस्थितिक तंत्र बनाकर और हाउसिंग फॉर ऑल के समग्र उद्देश्य को प्राप्त करने के लिए आत्म निर्भर भारत अभियान की दूरदर्शिता को संबोधित करने के लिए मंत्रिमंडल ने आवास और शहरी मंत्रालय से सस्ती रेंटल हाउसिंग कॉम्प्लेक्स योजना से संबंधित समझौता ज्ञापन  पर हस्ताक्षर करने के लिए अनुरोध करने का फैसला लिया।

मंत्रिमंडल ने उपकोषागार के प्रबंधन के लिए विभिन्न श्रेणियों के पांच पदों के सृजन के साथ ही कांगड़ा जिले के नगरोटा बगवां में उपकोषागार खोलने की अपनी स्वीकृति दी। मंडी जिले की तहसील थुनाग में बागाचनोगी में उपतहसील खोलने की सहमति दी, जिसमें विभिन्न श्रेणियों के 12 पदों का सृजन किया गया। नई बनाई गई उपतहसील में छह पटवार सर्कल क्रमश: शावा, कल्हनी, कालीपार, शिलाबिगी और जनेशला होंगे।

मंत्रिमंडल को क्षेत्र की कठिन भौगोलिक परिस्थितियों को ध्यान में रखते हुए मंडी जिले की तहसील थुनाग के तहत पटवार वृत्त जैनशाला खोलने के लिए भी अपनी अनुमति दी।  पंचायतीराज विभाग में चतुर्थ श्रेणी कर्मचारियों के 10 पदों को भरने का निर्णय लिया गया।