हिमाचल: रोहतांग के बाद अब शिंकुला दर्रे पर बनेगी 13.5 Km लंबी टनल

शिमला:  हिमाचल प्रदेश (Himachal Pradesh) में एक और टनल (Tunnel) का निर्माण होने जा रहा है. भारत-चीन के बीच बढ़ते तनाव के बीच रक्षा मंत्रालय मनाली लेह-मार्ग की सामरिक महत्व को देखते हुए अटल टनल रोहतांग के बाद शिंकुला दर्रे (Shinkula Pass) में टनल बनाने के लिये प्रक्रिया तेज कर दी है. 16000 फीट की ऊंचाई पर बनने वाली 13.5 किमी लंबी टनल दुनिया की सबसे लंबी टनल होगी. इस टनल के पूरा होने से चीन पर बेहतर तरीके से नजर रखी जा सकेगी. साथ ही सेना का आवागमन भी सीमाई इलाकों में निर्बाध तरीके से संभव हो सकेगी.

टीम ले रही जायजा
भूतल परिवहन मंत्रालय के अधीन राष्टीय उच्च मार्ग एवं अधोसंरचना विकास प्राधिकरण की टीम ने शिंकुला टनल की रूपरेखा तैयार की है. हाल ही में बीते सप्ताह राष्टीय उच्च मार्ग एवं अधोसंरचना विकास प्राधिकरण के प्रबंध निदेशक एवं कार्यकारी निदेशक संजीव मलिक ने शिंकुला टनल नॉर्थ पोर्टल पहुंच कर भूवैज्ञानिक सर्वेक्षण कार्य का जायजा लिया, ताकि शिंकुला टनल का कार्य की डीपीआर जल्द रक्षा मंत्रालय को सौंपी जाए. इस टनल के बनने के बाद लेह के लिये 12 महीने सड़क सुविधा उपलब्ध होगी .

क्या बोले अधिकारी
प्राधिकरण के कार्यकारी निदेशक संजीव मलिक ने बताया कि शिंकुला टनल का डीपीआर बना रहे हैं, जिसमे भूवैज्ञानिक सर्वेक्षण सहित डिजाइन का कार्य चल रहा है. सलाहकारों ने 13.5 किलोमीटर लंबी टनल की सिफारिश की है, जिसपर आगे बढ़ते हुए काम चल रहा है. उम्मीद है कि 10 अक्टूबर तक सारी प्रकिया पूरी करते हुए अक्‍टूबर के अंत और नवम्बर में रिपोर्ट रक्षा मंत्रालय को सौपेंगे. साथ ही दिसम्बर माह तक टेंडर लग जाएगा.