हाथरस गैंगरेप :पीडि़ता का रातोंरात अंतिम संस्कार किए जाने पर पूरे देश में बवाल

हाथरस में गैंगरेप पीडि़ता को पुलिस द्वारा रातोंरात अंतिम संस्कार किए जाने पर पूरे देश में बवाल मच गया है। इस पर जहां लड़की के परिजनों ने भारती विरोध जताया हैं, वहीं विपक्ष का आरोप है कि सबूत मिटाने के लिए योगी सरकार ने पुलिस के साथ मिलकर यह साजिश रची है। दरअसल पीडि़ता की मौत के बाद मंगलवार रात पुलिस ने उसका अंतिम संस्कार कर दिया। परिजनों का आरोप है कि पुलिस ने जबरदस्ती अंतिम संस्कार किया और उन्हें आखिरी बार चेहरा तक नहीं देखने दिया गया। पता नहीं पुलिस ने किसे जलाया। लड़की के भाई ने पुलिस पर अपने रिश्तेदारों के साथ मारपीट करने और उन्हें गांव पहुंचने से रोकने का आरोप भी लगाया। पीडि़त के बड़े भाई ने कहा कि शव दिखाने और बेटी को एक बार घर ले जाने की मांग कर रही घर की महिलाओं के साथ महिला पुलिसकर्मियों ने मारपीट की। रिश्तेदारों को गांव तक नहीं आने दिया। जबरदस्ती रात में ही अंतिम संस्कार कर दिया। हम उनसे कहते रहे कि कम से कम सुबह होने के इंतजार करें, लेकिन हमारी एक नहीं सुनी। पीडि़त का परिवार अब पुलिस पर मामले को किसी भी तरह निपटाने का आरोप लगा रहा है। पुलिस ने अभी तक गैंगरेप किए जाने की पुष्टि भी नहीं की है।

हाथरस गैंगरेप पीडि़ता के रात में हुए अंतिम संस्कार पर उठ रहे सवालों के बीच उत्तर प्रदेश के एडीजी लॉ एंड ऑर्डर प्रशांत कुमार ने कहा कि पीडि़ता की डेडबॉडी खराब हो रही थी। इसी वजह से परिजनों ने भी रात को ही अंतिम संस्कार कर देने पर सहमति जताई थी। इसी के बाद पुलिस की मौजूदगी में देर रात अंतिम संस्कार कर दिया गया।

हाथरस गैंगरेप पीडि़ता की मौत और देर रात हुए अंतिम संस्कार को विपक्ष ने मुद्दा बना दिया है। प्रदेश की योगी सरकार विपक्षी दलों के निशाने पर है। वहीं, रात में हुए अंतिम संस्कार के बाद पुलिस पर भी सवाल उठ रहे हैं। आरोप लग रहा है कि साक्ष्य को मिटाने के लिए पुलिस ने रात में ही जबरन अंतिम संस्कार कर दिया। सीएम योगी आदित्यनाथ ने इस मामले में एसआईटी गठित करने का ऐलान किया है। गृह सचिव की अध्यक्षता वाली इस तीन सदस्यीय टीम में डीआईजी चंद्र प्रकाश और आईपीएस अधिकारी पूनम को सदस्य बनाया गया है।

सीएम ने पूरे घटनाक्रम पर सख्त रुख अख्तियार करते हुए टीम को घटना की तह तक जाने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने समयबद्ध ढंग से जांच पूरी कर रिपोर्ट देने के निर्देश भी दिए हैं। उधर, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सीएम योगी आदित्यनाथ से फोन पर बात कर हाथरस गैंगरेप केस का संज्ञान लिया है। पीएम मोदी ने इस घटना के दोषियों के खिलाफ कठोरतम कार्रवाई करने को कहा है। सीएम योगी ने यह जानकारी ट्वीट कर दी।

इस मामले को लेकर कांग्रेस की महासचिव प्रियंका गांधी वढेरा ने योगी सरकार पर जोरदार हमला बोला है। उन्होंने पुलिस द्वारा जबरन किए गए अंतिम संस्कार को घोर अमानवीयता बताया है। इसके साथ ही प्रियंका ने प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से इस्तीफे की मांग की है।
सरकार ने किया 25 लाख रुपए मुआवजा मुआवजे देने का ऐलान
हाथरस गैंगरेप केस और जबरन अंतिम संस्कार को लेकर मचे घमासान के बीच सीएम योगी आदित्यनाथ ने पीडि़त परिवार से बात की। उन्होंने दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई का आश्वासन दिया। साथ ही सरकार की तरफ से पीडि़ता के परिवार को 25 लाख रुपए के मुआवजे का ऐलान किया गया है। इसी के साथ कनिष्ठ सहायक पद पर परिवार के एक सदस्य को नौकरी दी जाएगी।