फर्जी गरीब मामला: बिलासपुर में दो नए मामले ट्रेस, नोटिस जारी

हिमाचल प्रदेश की जिला बिलासपुर में खाद्य नागरिक एवं आपूर्ति विभाग के निदेशालय से जारी तीसरी व चौथी लिस्ट में दो नए मामले ट्रेस हुए हैं। ये सरकारी कर्मी प्रायोरिटी हाउसहोल्ड (पीएचएच) में शामिल पाए गए हैं। इनमें से एक सरकारी कर्मचारी ने रिकवरी का पैसा विभाग के पास जमा करवा दिया है, जबकि दूसरे कर्मचारी को रिकवरी जमा करवाने के लिए नोटिस जारी किया गया है। पहली व दूसरी सूची में ट्रेस हुए कुल सात मामलों में रिकवरी का पैसा विभाग के पास जमा हो चुका है, जबकि नए दो केस में भी एक ने रिकवरी का पैसा जमा करवा दिया है।
सभी सात कर्मचारी व अधिकारियों की ओर से विभाग द्वारा डाली गई कुल 3.11 लाख रुपए की रिकवरी का पैसा जमा करवाया जा चुका है। ऐसे में जिला बिलासपुर में बीपीएल व पीएचएच में शामिल होकर सरकारी राशन का लाभ उठाने वालों की तादाद नौ हो गई है। जानकारी के मुताबिक निदेशालय से जारी तीसरी लिस्ट में घुमारवीं ब्लॉक से संबंध रखने वाला एक टीजीटी शिक्षक ट्रेस हुआ है, जिसे विभाग की ओर से 68,293 रुपए की रिकवरी डाली गई थी। बताया जा रहा है कि नोटिस मिलने के बाद उक्त कर्मचारी ने रिकवरी का सारा पैसा विभाग के पास जमा करवा दिया है। वहीं दूसरा व्यक्ति भी एक टीचर है, जो कि सदर ब्लॉक से संबंध रखता है। विभाग द्वारा जारी किए गए नोटिस के तहत इस कर्मचारी को 25717 रुपए की रिकवरी डाली गई है और जल्द से जल्द रिकवरी का पैसा जमा करवाने के लिए कहा गया है।
आपूर्ति एवं उपभोक्ता मामले विभाग में एक बड़ा घोटाला सामने आया
उल्लेखनीय है कि खाद्य नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता मामले विभाग में एक बड़ा घोटाला सामने आया है, जिसके तहत बीपीएल व पीएचएच में शामिल लगभग 150 सरकारी कर्मी व अधिकारी ट्रेस हुए हैं। ये कर्मी व अधिकारी सालों से सरकार द्वारा गरीब तबके के लोगों के लिए शुरू की गई सस्ते राशन की सुविधा का लाभ उठा रहे थे। उधर, इस संदर्भ में बात करने पर खाद्य नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता मामले विभाग बिलासपुर के जिला नियंत्रक पवन शर्मा ने बताया कि अभी तक ट्रेस हुए सभी सात कर्मी व अधिकारियों ने रिकवरी का पैसा जमा करवा दिया है। तीसरी सूची में सामने आए कर्मचारी ने भी रिकवरी जमा करा दी है, जबकि चौथी सूची में ट्रेस हुए कर्मी को नोटिस दिया गया है।