राजकीय सम्‍मान के साथ नागालैंड के पूर्व राज्‍यपाल अश्‍वनी कुमार का अतिम संस्‍कार

नागालैंड के पूर्व राज्‍यपाल एवं सीबीआइ के निदेशक रहे अश्‍वनी कुमार के शव का वीरवार को आइजीएमसी शिमला में पोस्‍टमार्टम करवाया गया। पोस्‍टमार्टम के बाद शव घर लाया गया। इसके बाद संजौली के शव गृह में राजकीय सम्‍मान के साथ अतिम संस्‍कार किया गया। इकलौते बेटे अभिषेक ने दिवंगत पिता को मुखाग्नि दी। दिवंगत डॉ. अश्वनी कुमार का अंतिम संस्कार संजौली चनोथी मोक्षधाम में किया गया। इस मौके पर ऊर्जा मंत्री सुखराम चौधरी, पूर्व कांग्रेस प्रदेश अध्‍यक्ष सुखविंदर सिंह सुक्‍खू, पूर्व मंत्री जीएस बाली, मुख्‍य सचिव अनिल खाची और डीजीपी संजय कुंडू सहित जिला प्रशासन और पुलिस के अधिकारी मौजूद रहे।

हिमाचल प्रदेश के मुख़्यमंत्री जयराम ठाकुर ने दी श्रद्धांजलि और कहा हिमाचल के पूर्व पुलिस महानिदेशक और नागालैंड के पूर्व राज्यपाल एवं पूर्व सीबीआई डायरेक्टर रहे अश्वनी कुमार जी के असामयिक मृत्यु की खबर सुनकर दुःखी हूं। ईश्वर दिवंगत आत्मा को शांति व शोकग्रस्त परिवार को इस दुःख को सहने की शक्ति प्रदान करें।

70 वर्षीय अश्विनी कुमार का जन्म सिरमौर के जिला मुख्यालय नाहन में हुआ था। वह 1973 बैच के आईपीएस अधिकारी थे। 2006 से लेकर 2008 तक हिमाचल के डीजीपी रहे। इसके साथ ही सीबीआई व एसपीजी में विभिन्न पदों पर रहे। अगस्त 2008 से नवंबर 2010 के बीच वह सीबीआई के निदेशक रहे। पूर्व पीएम राजीव गांधी की सुरक्षा में भी अश्विनी कुमार तैनात थे। मार्च 2013 में रिटायरमेंट के बाद वे नागालैंड के राज्यपाल बनाए गए तो काफी विवाद भी हुआ था। हालांकि वर्ष 2014 में उन्होंने अपने पद से त्यागपत्र दे दिया था। इसके बाद वह शिमला में एक निजी विश्वविद्यालय के वीसी भी रहे।