कोरोना पॉजिटिव महिला आत्महत्या, पांच दिन में तलब की जांच रिपोर्ट

कोरोना पॉजिटिव महिला की आत्महत्या के मामले में मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने कड़ा संज्ञान लिया है। मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने कहा कि दीनदयाल अस्पताल शिमला में हुई कोविड पॉजिटिव महिला की खुदकुशी की घटना दुर्भाग्यपूर्ण है। उन्होंने कहा कि इस घटना की उन्हें पीड़ा है। इस बारे में सरकार सख्त कार्रवाई करेगी। मुख्यमंत्री कार्यालय ने स्वास्थ्य विभाग से पांच दिन के भीतर जांच रिपोर्ट तलब कर ली है। अतिरिक्त मुख्य सचिव स्वास्थ्य आरडी धीमान ने एडीएम शिमला को जांच का जिम्मा सौंपा है। मंगलवार आधी रात को शिमला के डीडीयू अस्पताल में चौपाल निवासी महिला ने फंदा लगाकर आत्महत्या कर ली थी। इस घटना के घंटों बाद तक स्वास्थ्य अधिकारियों को सूचना तक नहीं थी। इससे इस अस्पताल में कोविड मरीजों के लिए किए गए प्रबंधों की भी पोल खुली है। माना जा रहा है कि इलाज ठीक से न होने और अस्पताल में उपेक्षा के चलते अवसाद में महिला ने आत्महत्या कर ली।
इस महिला की ठीक से काउंसलिंग भी नहीं की गई, जबकि सरकार की ओर से कई बार निर्देश जारी किए गए हैं कि कोविड मरीजों के मानसिक स्वास्थ्य का 20 डॉक्टरों को ध्यान रखना होगा। विधानसभा के मानसून सत्र में विपक्ष अस्पतालों में अव्यवस्था को लेकर सरकार को घेर चुका है। ऐसे में अब इस नए प्रकरण से विपक्ष को सदन से बाहर भी सरकार को घेरने का एक और मौका मिल गया है। इसी के डैमेज कंट्रोल के लिए सरकार ने आनन-फानन में एडीएम शिमला को जांच का जिम्मा सौंप दिया है। उधर, स्वास्थ्य मंत्री डॉ. राजीव सैजल ने बताया कि मामले को गंभीरता से लिया जा रहा है।
यहां पढ़ें
हिमाचल : मंत्रिमंडल बैठक में अंतरराज्यीय बसों के संचालन पर हो सकता है फैसला
कृषि बिल, नए कानून से बदलेगी किसानों की किस्‍मत, विपक्षी दल कर रहे है लोगों को गुमराह :मुख़्यमंत्री