हिमाचल: कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों को देखते हुए 15 दिन के लिए फिर बंद किए गए शैक्षणिक संस्थान

हिमाचल प्रदेश में शैक्षणिक संस्थान 15 दिन तक बंद रहेंगे। कैबिनेट ने वर्तमान कोविड-19 परिस्थितियों के मद्देनजर सभी सरकारी, निजी स्कूलों, कॉलेजों, औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थानों, पॉलीटेक्निक, इंजीनियरिंग कालेजों और कोचिंग संस्थानों को 11 से 25 नवंबर तक बंद करने का निर्णय लिया है। इस दौरान विद्यार्थियों के साथ शिक्षक और गैर शिक्षक भी शिक्षण संस्थानों में नहीं आएंगे। विशेष छुट्टियों के चलते ऑनलाइन पढ़ाई भी बंद रहेगी। अभी तक 87 विद्यार्थी और 215 शिक्षक कोरोना पॉजीटिव आ चुके हैं। यह मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर की अध्यक्षता में मंगलवार को हुई बैठक में निर्णय लिया गया।

बता दें, नौवीं से 12वीं कक्षा के लिए दो नवंबर से प्रदेश के स्कूलों में नियमित कक्षाएं शुरू हुई हैं। इस दौरान मंडी जिला में काफी अधिक संख्या में शिक्षक और विद्यार्थी कोरोना संक्रमित पाए गए हैं। इसके अलावा राजधानी शिमला के स्कूलों में भी कोरोना संक्रमण के मामले सामने आए हैं। स्कूलों में बढ़े कोरोना संक्रमण के मामलों के चलते अन्य जिलों में अभिभावक अपने बच्चों को स्कूल भेजने के लिए सहमति पत्र देने से परहेज कर रहे हैं। इसके चलते स्कूलों में नियमित कक्षाएं लगाने के लिए आने वाले विद्यार्थियों की संख्या बहुत कम हो गई है।  इसको देखते हुए सरकार ने दिवाली के दौरान संस्थानों को बंद रखने का फैसला लिया है।
विशेष अवकाश के बाद दिसंबर में होंगी अब सेकेंड टर्म परीक्षाएं
वहीं, प्रदेश के सरकारी स्कूलों में 25 नवंबर को विशेष अवकाश होने के बाद दिसंबर के पहले सप्ताह में सेकेंड टर्म की परीक्षाएं शुरू होंगी। 15 दिसंबर से पहले सरकारी स्कूलों में शिक्षा विभाग परीक्षा की प्रक्रिया पूरी करेगा। हालात ठीक नहीं रहे तो नौवीं से 12वीं कक्षा की परीक्षाएं भी ऑनलाइन ही होंगी। हालात ठीक रहने पर सरकार ने इन कक्षाओं की स्कूलों में ही परीक्षाएं लेने का विकल्प भी रखा है। उधर, पहली से आठवीं कक्षाओं की परीक्षाओं को पहले ही ऑनलाइन लेने का फैसला हो चुका है। इसके अलावा मार्च 2021 में ही सरकारी स्कूलों में सभी कक्षाओं की एक साथ वार्षिक परीक्षाएं ली जाएंगी। सरकारी स्कूलों में पहली से आठवीं कक्षा की सेकेंड टर्म परीक्षाएं फर्स्ट टर्म की तरह व्हाटसअप के माध्यम से ही होगी। नौवीं से जमा दो कक्षा की सेकेंड टर्म परीक्षाओं को लेकर स्कूल खुलने के बाद फैसला लिया जाएगा। प्रदेश में होने जा रहे पंचायत चुनावों के चलते 15 दिसंबर से पहले सरकारी स्कूलों में परीक्षाओं की प्रक्रिया पूरी की जानी है।