शौर्य और साहस के प्रदर्शन के साथ मनाया गया वायुसेना का 87वीं वर्षगांठ

वायुसेना का 87वां स्थापना दिवस गाजियाबाद के हिंडन एयरबेस पर मनाया गया। भारतीय वायुसेना की स्थापना आठ अक्टूबर 1932 को की गई थी। इस मौके पर वायुसैनिकों ने एक से बढ़कर एक करतब दिखा सभी को हैरत में डाल दिया।भारतीय वायुसेना मना रही है अपना 87वां स्थापना दिवस। वायुसेना के जाबांज़ों ने हिंडन एयरबेस पर दिखाये हैरतअंगेज़ हवाई करतब। राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री और रक्षा मंत्री ने वायुसेना कर्मियों को दी बधाई।आज वायुसेना दिवस है। भारतीय वायुसेना की स्थापना को आज 87 वर्ष पूरे हो गये। 8 अक्टूबर 1932 को भारतीय वायुसेना की स्थापना की गई थी। इस दिन को Air Force Day के तौर पर मनाया जाता है। 1 अप्रैल 1933 को इसके पहले दस्ते का गठन हुआ था। इस अवसर पर आज गाजियाबाद स्थित हिंडन एयरबेस पर कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इस दौरान वायु सेना के जवानों ने हैरतअंगेज़ हवाई करतब दिखाये।इस मौके पर वायु सेना प्रमुख आर.के. सिंह भदौरिया ने कहा कि रफाल लड़ाकू विमान और एस-400 मिसाइल प्रणाली जैसे महत्वपूर्ण अधिग्रहणों के चलते भारतीय वायुसेना का तेजी से आधुनिकीकरण हो रहा है। उन्होंने कहा कि वायु सेना में स्वदेशीकरण को तरजीह देने की ज़रूरत है।इससे पहले आज सुबह थल सेना प्रमुख बिपिन रावत, भारतीय वायु सेना प्रमुख आरके सिंह भदौरिया और नौसेनाध्यक्ष करमबीर सिंह ने राजधानी दिल्ली स्थित राष्ट्रीय युद्ध स्मारक पहुंचकर वीर शहीदों को श्रद्धांजलि अर्पित की। राष्ट्रपति, और रक्षा मंत्री ने वायुसेना कर्मियों को बधाई दी है।प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भारतीय वायु सेना के स्थापना दिवस पर वीर योद्धाओं को याद किया। पीएम ने कहा कि एक गौरांवित राष्ट्र वायुसेना दिवस पर वायु योद्धाओं और उनके परिवारों के प्रति आभार व्यक्त करता है। भारतीय वायु सेना निरंतर समर्पण और उत्कृष्टता के साथ भारत की सेवा कर रही है। पीएम मोदी ने इस मौके पर एक वीडियो भी जारी किया।