शिमला: 17 में से 10 निजी यूनिवर्सिटी के VC अयोग्य, हटाने का आदेश

शिमला: हिमाचल प्रदेश में चल रहे 17 में से 10 निजी विश्वविद्यालयों के वाइस चांसलर अयोग्य करार दिए गए हैं. निजी संस्थान नियामक आयोग की ओर से गठित हाई पावर कमेटी की रिपोर्ट के आधार पर आयोग ने इन्हें हटाने के आदेश जारी कर दिए हैं. आयोग के चैयरमेन मेजर जनरल(रि) अतुल कौशिक ने शनिवार को इन विश्वविद्यालयों के चांसलर को आदेश जारी कर दिए हैं और आदेशों पर कार्रवाई करने के लिए 10 दिसंबर तक का समय दिया गया है.
इन 10 में से 8 कुलपति, वाइस चांसलर पद के लिए यूजीसी की ओर तय की गई शैक्षिण्क योग्यताएं नहीं रखते हैं यानी कि वो कुलपति बनने के लिए पात्र नहीं हैं और 2 की उम्र ज्यादा(ओवर ऐज) है. इस फैसले से निजी विश्वविद्यालयों में हड़कंप मच गया है. 6 यूनिवर्सिटी के कुलपति योग्य पाए गए हैं जबकि फर्जी डिग्री मामले में फंसी मानव भारती यूनिवर्सिटी की जांच के चलते उसके कुलपति की योग्यता की जांच नहीं की गई.
आयोग के पास आई थी शिकायत
आयोग के चैयरमेन मेजर जनरल(रि) अतुल कौशिक ने बताया कि तीन यूनिवर्सिटी के वाइस चांसलर की योग्यता को लेकर आयोग के पास शिकायत आई थी. शिकायत के आधार पर आयोग ने एचपीयू के पूर्व कुलपति की अध्यक्षता में तीन सदस्यीय कमेटी का गठन किया और इन के अलावा सभी यूनिवर्सिटी के कुलपतियों की योग्यता जांचने के लिए कहा गया. कमेटी ने इनके बायो डाटा के अलावा अन्य शैक्षिण्क योग्यता के दस्तावेजों के जांचा और 10 यूनिवर्सिटी के वाइस चांसलर अयोग्य पाए गए