मंडी: कोरोना पीड़ित महिला की मौत का अंतिम संस्कार पर विरोध, लोगो ने सड़क पर रखे पत्थर

सुंदरनगर (मंडी): हिमाचल प्रदेश में कोरोना वायरस से 5 लोगों की जान जा चुकी है. सोमवार को मंडी जिले में 65 साल की बुजुर्ग महिला ने दम तोड़ा. मंगलवार को महिला के शव का अंतिम संस्कार किया गया. हालांकि, अंतिम संस्कार से पहले विवाद हो गया. लोगों ने महिला के शव को खुले में जलाने का विरोध किया. इस दौरान बल्ह क्षेत्र में लोगों ने सड़क पर पत्थर रख दिए. आलम यह हुआ कि तनाव को देखते हुए अतिरिक्त पुलिस बुलानी पड़ी.

श्मशानघाट को जाने वाले रास्ते के बीच रास्ते में रखे पत्थर
मंडी के बल्ह क्षेत्र के स्थानीय लोगों ने अस्थायी रूप से बनाए गए श्मशानघाट को जाने वाले रास्ते के बीच खड़े होकर खूब विरोध किया और इस मार्ग पर पत्थर भी रख दिए. पुलिस के अलावा, प्रशासनिक अधिकारियों ने लोगों को समझाया भी, लेकिन लोग नहीं माने. बाद में सुकेती खड्ड के किनारे महिला के शव का दाह संस्कार किया गया. इससे पहले हमीरपुर के कोरोना मरीज का भी यहीं संस्कार किया गया था. वहीं, इस मामले में डीसी मंडी ऋग्वेद ठाकुर का कहना है कि जिला प्रशासन द्वारा चिन्हित जगह पर ही कोरोना मृत लोगों का अंतिम संस्कार किया जाएगा. यदि कोई सुझाव रखना चाहे तो जिला प्रशासन से बात कर सकता है.

कोरोना पीड़ित महिला की हुई थी मौत
सोमवार दोपहर मंडी जिला के रत्ती वार्ड की कोरोना पीड़ित महिला ने नेरचौक मेडिकल कॉलेज में अंतिम सांस ली थी. महिला किडनी की बीमारी से भी जूझ रही थीं और दोपहर बाद उन्‍होंने दम तोड़ दिया था. मंगलवार सुबह कंसा में पुलिस और प्रशासन की मौजूदगी में अंतिम संस्कार किया जाना था, लेकिन महिला का अंतिम संस्कार खुले में करने को लेकर विवाद हो गया.