उपायुक्त ने किया संस्थागत संगरोध स्थलों का औचक निरीक्षण

हमीरपुर : कोविड-19 महामारी के कारण जारी पूर्णबंदी के कारण बाहरी राज्यों से हमीरपुर जिला के लोगों की घर वापसी जारी है। रेड जोन से आने वाले लोगों को संस्थागत संगरोध सुविधा स्थलों में रखा जा रहा है। उपायुक्त हरिकेश मीणा ने आज विभिन्न संस्थागत संगरोध केंद्रों का औचक निरीक्षण कर वहां व्यवस्थाओं का जायजा लिया।

रविवार प्रातः उन्होंने राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान, हमीरपुर तथा राजकीय डिग्री कॉलेज, हमीरपुर के परिसर में स्थापित संगरोध सुविधा स्थलों का अवलोकन किया। उन्होंने वहां लोगों को ठहराने तथा प्रदत्त विभिन्न सुविधाओं के बारे में भी जानकारी प्राप्त की। उन्होंने संबंधित अधिकारियों को निर्देश दिए कि वे यहां विभिन्न सेवाएं सुचारू रखने के लिए समय पर सभी आवश्यक प्रबंध सुनिश्चित करें। इस दौरान उपमंडलाधिकारी (ना.) डॉ. चरंजी लाल भी उनके साथ उपस्थित थे।

उन्होंने गत दिवस जवाहर नवोदय विद्यालय, डुंगरी तथा बहुतकनीकी संस्थान, बड़ू में स्थापित संस्थागत संगरोध सुविधा स्थलों सहित भोटा व डुग्घा में स्थित सेकंडरी व प्राइमरी आइसोलेशन सुविधा स्थलों का भी निरीक्षण किया और इनकी देखरेख से जुड़े स्वास्थ्य विभाग एवं अन्य अधिकारियों को आवश्यक दिशा-निर्देश दिए। इससे पूर्व उन्होंने 22 मई की सायं को भी एनआईटी, हमीरपुर का औचक निरीक्षण किया।

उपायुक्त ने कहा कि जिला में 26 अप्रैल, 2020 से 23 मई, 2020 तक 16 हजार से अधिक लोग बाहरी राज्यों से वापस लौटे हैं, जिनमें लगभग दस हजार लोग रेड जोन से आए हैं। बाहरी राज्यों से आने वाले इन सभी लोगों की पूर्ण चिकित्सा जांच स्वास्थ्य विभाग के माध्यम से सुनिश्चित की गई है। रेड जोन से आने वाले लोगों के कोविड-19 जांच के लिए नमूने लेने की प्रक्रिया भी तेज की गई है। अभी तक जिला में साढ़े चार हजार से अधिक नमूने लिए गए हैं, जिनमें से साढ़े तीन हजार के करीब रेड जोन से आए लोगों के हैं। उन्होंने कहा कि जिला में 13 हजार से अधिक लोग अपनी संगरोध अवधि पूर्ण कर चुके हैं।

उन्होंने कहा कि आज भी अहमदाबाद तथा ठाणे से हमीरपुर जिला में दो रेलगाड़ियों में लगभग 170 लोग आ रहे हैं। इन्हें जिला में स्थापित विभिन्न संगरोध सुविधा स्थलों में रखा जा रहा है। इसके लिए सभी आवश्यक प्रबंध करने के निर्देश संबंधित अधिकारियों को दे दिए गए हैं।

उन्होंने लोगों से आग्रह किया कि वे संगरोध नियमों की कड़ाई से अनुपालना करें, ताकि इस वैश्विक महामारी के संक्रमण को रोका जा सके।